लॉकडाउन में उपभोक्ताओं के साथ हो रही बड़ी हेराफेरी, ऐसे हुआ भंडाफोड़, देखें वीडियो

कोराना वायरस संक्रमण व लॉकडाउन के चलते लोगों का जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। मध्यम वर्गीय परिवार और गरीबों की कमर टूट गई है। रोजी-रोजगार बंद हैं। जेब भी पूरी तरह से खाली हैं। संकट की इस घड़ी में लोग किसी तरह जीवन यापन कर रहे हैं। विपत्ति के इस दौर में भी कुछ व्यापारी उपभोक्ताओं को लूटने में पीछे नहीं हैं। ऐसा ही एक मामला सोमवार को फारेस्ट प्लेग्राउंड स्थित अस्थाई सब्जी मंडी में सामने आया।

By: balmeek pandey

Published: 05 May 2020, 08:03 AM IST

कटनी. कोराना वायरस संक्रमण व लॉकडाउन के चलते लोगों का जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। मध्यम वर्गीय परिवार और गरीबों की कमर टूट गई है। रोजी-रोजगार बंद हैं। जेब भी पूरी तरह से खाली हैं। संकट की इस घड़ी में लोग किसी तरह जीवन यापन कर रहे हैं। विपत्ति के इस दौर में भी कुछ व्यापारी उपभोक्ताओं को लूटने में पीछे नहीं हैं। ऐसा ही एक मामला सोमवार को फारेस्ट प्लेग्राउंड स्थित अस्थाई सब्जी मंडी में सामने आया। जहां पर एक किलो के वजन में 200 से ढाई सौ ग्राम सब्जी कम तौली जा रही थी। एक ग्राहक की सजगता से इस हेराफेरी का भंडाफोड़ हुआ। द्वारका सिटी समीप निवासी रज्जू भास्कर ने सब्जी बाजार में सब्जी व्यापारी ममता जाटव से बैगन और ककड़ी एक-एक किलोग्राम खरीदे। दोनों ही सब्जी का वजन कम लगा तो दूसरे सब्जी विक्रेता के यहां जाकर के तौल कराई तो दोनों ही सब्जियां दो-दो सौ ग्राम कम निकलीं। इस पर उसने तत्काल नगर निगम के अधिकारियों को सूचना दी। मौके पर पहुंचे अतिक्रमण दस्ता से प्रशांत परौहा, मुकेश राजपूत आदि ने सब्जी विक्रेता महिला से पूछताछ की। इस दौरान वह गोलमोल जवाब देने लगी। महिला के सामने बाट का वजन कराया तो एक बाट का वजन 200 ग्राम व एक बाट का ढाई सौ ग्राम वजन कम निकला। नगर निगम ने बाटों को जब्त कर नापतौल विभाग को खबर दी।

हर तीसरी दुकान में पत्थर के बाट
इस घटना को कैमरे में कैद करने के बाद पत्रिका ने फारेस्टर मैदान की सब्जी मंडी का जायजा लिया तो स्थिति चौकाने वाली रही। हर तीसरा दुकानदार यहां पर लोहे के बाट के स्थान पर पत्थर से तौल करता दिखा। कुछ लोग आपत्ति भी दर्ज कराते दिखे, लेकिन दुकानदारों के सख्त लहजे के आगे ग्राहक सब्जी लेकर आगे बढऩा ही मुनासिब समझा। ढाई सौ ग्राम और 500 ग्राम के लोहे के बाट बाजार में कम ही नजर आए। अधिकांश दुकानों में पत्थर व पन्नी में वजन बनाकर रखे दिखे। इलेक्ट्रॉनिक कांटे का दौर चल रहा है, जिसमें ग्राहक और व्यापारी दोनों को सहूलियत है, इसके बाद भी बाजार में व्यापारी ग्राहकों को चूना लगा रहे हैं।

 

Fraud with consumers in lockdown katni
IMAGE CREDIT: balmeek pandey

नापतौल विभाग की नहीं पड़ रही नजर
बाजार में ग्राहकों के साथ इस तरह की हेराफेरी न हो इसके लिए नापतौल विभाग बनाया गया है, लेकिन यहां के अधिकारी सिर्फ कागजों में कार्रवाई कर रहे हैं। पूरे बाजार में मनमानी जारी है और विभाग कार्रवाई करने की जहमत नहीं कर रहा। न तो बाट की जांच हो रही ना ही तराजू की, मुहर लगाना तो दूर की बात है। जबकि विभाग को औचक निरीक्षण कर जांच कराई करते हुए हेराफेरी करने वालों पर जुर्माने की कार्रवाई करनी चाहिये, लेकिन वह नहीं हो रही। मैदान में उपभोक्ता संरक्षण की दुहाई देने वाले लोग भी सेवा करने का दावा कर रहे हैं, लेकिन यहां सिर्फ औपचारिकता हो रही है।

इनका कहना है
व्यवस्था के लिए अतिक्रमण दस्ता प्रभारी प्रशांत परौहा के साथ फारेस्टर प्लेग्राउंड में ड्यूटी पर थे। एक उपभोक्ता ने कम वजन की शिकायत की। बाट का दूसरी जगह वजन कराया गया तो ढाई सौ ग्राम कम निकले। बाट को जब्त किया गया है।
मुकेश राजपूत, व्यवस्था प्रभारी नगर निगम।

लॉकडाउन में अभी सब पेट पाल रहे हैं। ज्यादा कार्रवाई उचित नहीं होगी। फिर भी ऐसी मनमानी न हो इस पर पहल की जाएगी। एक-दो दिन में सब्जी बाजार व मार्केट में जांच की जाएगी। हेराफेरी व मनमानी पर जुर्माना लगाएंगे।
आरके ढोके, जिला नापतौल अधिकारी।

balmeek pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned