सरकार बदली, निजाम बदले, नहीं बंद हुआ रेत का अवैध खनन और परिवहन

By: raghavendra chaturvedi

Published: 19 Jan 2019, 11:46 AM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

Government changed, Nizam changed, no change illegal sand mining

1/4

23 मई 2018 को बड़वारा के खरहटा में जब्त अवैध रेत का स्टॉक की यह तस्वीर अवैध खनन की कहानी बयां कर रहा है। 28 मई की रात गुढ़ाकला रेत खदान पर अवैध खनन करते वाहनों को ग्रामीणों ने पकड़ा। तत्तकॉलीन विधायक मोती कश्यप के पुत्र का नाम सामने आया। बाद में मोती कश्यप में तत्तकॉलीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को पत्र लिखकर रेत के अवैध खनन में 5 सौ करोड़ के घोटाले की बात कही। 9 जून को 22 चका ट्राला में फर्जी टीपी से रेत का अवैध परिवहन तहसीलदार बरही एमएल तिवारी ने पकड़ा। इससे पहले जाजागढ़ में 70 ट्राली से ज्यादा रेत का अवैध भंडारण पकड़ा था।

 

कटनी. रेत का अवैध खनन और परिवहन के मामले में जिले की नदियों का सीना छलनी होने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। महानदी और उमरार नदी के दर्जन भर से ज्यादा रेत के घाटों पर रेत का अवैध खनन कर परिवहन लगातार जारी है। खासबात यह है कि अवैध खनन का यह सिलसिला बीते सरकार में जैसा था कमोबेश स्थितियां वैसी ही है। आंकड़ों पर गौर करें तो सरकार बनने के पहले और बाद में रेत के अवैध खनन व परिवहन में ज्यादा अंतर नहीं आया।
इस पूरे मामले पर कलेक्टर केवीएस चौधरी का कहना है कि जिले में कहीं भी रेत का अवैध खनन और परिवहन नहीं हो इसके लिए अब अलग-अलग विभागों की संयुक्त टीम बनाई जा रही है। हमारा पूरा प्रयास है कि ऐसे मामलों में ठोस कार्रवाई हो और अवैध गतिविधी पर पूरी तरह से अंकुश लगे।

Patrika
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned