scripthandicapped employee doing better job | आपके मन को छू लेगा दिव्यांग कर्मचारी के काम का यह सलीका, इशारों-इशारों में होते हैं काम | Patrika News

आपके मन को छू लेगा दिव्यांग कर्मचारी के काम का यह सलीका, इशारों-इशारों में होते हैं काम

बोल और सुन नहीं पाता दिव्यांग, फिर भी सामान्य से कर रहा बेहतर काम, लोगों के लिए मिसाल
महिला बाल विकास विभाग का चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जबलपुर से लेकर भोपाल तक लेकर जाता है फाइलें व डाक

कटनी

Published: May 18, 2022 10:04:45 pm

कटनी. जिले में ऐसे कई दिव्यांग होनहार हैं, जो अपनी क्षमता का लोहा शहर से लेकर प्रदेश, देश और सात समंदर पार तक मंनवाते हैं। खेल जगत में तो 2 दिव्यांगों ने बेहतर प्रदर्शन से बड़ी उपलब्धि हासिल की है। ढीमरखेड़ा क्षेत्र की दिव्यांग सुदामा को खेल में बेहतर प्रदर्शन करने पर महिला दिवस पर 1 दिन का सांकेतिक कलेक्टर भी बनाया जा चुका है, जिले के दिव्यांग सामान्य लोगों के लिए किसी मिसाल से भी कम नहीं है। ऐसा ही एक दिव्यांग चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी महिला एवं बाल विकास विभाग में है, जो सामान्य से बेहतर काम कर रहा है। हम बात कर रहे हैं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी गोपाल दास की जो महिला बाल विकास विभाग में 10 वर्षों से पदस्थ है। यहां के अधिकारी बताते हैं कि गोपालदास सामान्य से बेहतर काम कर रहा है। ऑफिस के जो भी अधिकारी उसे काम करने के लिए निर्देशित करते हैं वह इशारों में समझ जाता है और तय समय में बेहतर ढंग से करता है।

आपके मन को छू लेगा दिव्यांग कर्मचारी के काम का यह सलीका, इशारों-इशारों में होते हैं काम
आपके मन को छू लेगा दिव्यांग कर्मचारी के काम का यह सलीका, इशारों-इशारों में होते हैं काम

जबलपुर व भोपाल भेजते हैं अधिकारी
महिला बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी नयन सिंह बताते हैं कि गोपाल दास 10वीं तक पढ़ाई किए हुए है। कार्यालय में बहुत बढिय़ा काम कर रहा है। जरूरत पडऩे पर गोपालदास को कोई आवश्यक फाइल लेकर के जबलपुर और भोपाल भेज दिया जाता है। वह फाइल करा कर के लेकर आ जाता है। फाइल पहुंचा कर आ जाता है। कई डाक भेजनी होती है वह भी भेज दी जाती है। गोपालदास को कागज में लिख कर के दे दिया जाता है वह उसे लेकर के चला जाता है। अधिकांश काम गोपाल दास इशारों में ही कर रहा है।

काम से पीछा छुड़ाने वालों के लिए मिसाल
नयन सिंह बताते हैं कि कई बार हम लोगों को भी ताज्जुब होता है कि गोपालदास कैसे इशारों इशारों में काम को समझ जाता है और उसे पूरा करता है। गोपाल दास ऐसे लोगों के लिए भी मिसाल है जो सक्षम होते हुए भी काम करने से जी चुराते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को गोपालदास से प्रेरणा लेनी चाहिए कि पूरी तत्परता और ईमानदारी से वह काम करता है जब एक दिव्यांग सामान्य से बेहतर काम कर सकता है, तो फिर सामान्य व्यक्ति को तो और भी बेहतर काम करना चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Presidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के निवास पहुंचे एकनाथ शिंदेMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनMaharashtra Politics: बीजेपी और शिंदे गुट के बीच नहीं आएगी शिवसेना, लेकिन निभाएगी विरोधी की भूमिका, जानें संजय राउत ने क्या कहा?Kangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'उदयपुर हत्याकांड: आरोपियों के कराची कनेक्शन पर पाकिस्तान की बेशर्मी, जानिए क्या बोला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.