अफसर ही बचा रहे, खराब चावल सप्लाई करने वाले मिलर्स पर कार्रवाई को लेकर उठे सवाल

जांच टीम से छिपाने नान के अफसरों ने दो माह में हजारों क्विंटल चावल किया रिजेक्ट, घटिया चावल सप्लाई करने वाले मिलर्स को बचाने में जुटे .

By: raghavendra chaturvedi

Published: 05 Sep 2020, 08:20 AM IST

कटनी. राशन दुकान से गरीबों को जानवरों के खाने योग्य चावल दिए जाने मामले में मिलर्स को बचाने की तैयारी नागरिक आपूर्ति निगम (नान) के अफसरों ने पहले ही कर ली है। यहां चावल के नमूने लेने के लिए केंद्र की टीम के आने से पहले ही हजारों क्विंटल चावल रिजेक्ट कर दिया गया है। रिजेक्ट किए गए चावल के नमूने केंद्र की टीम नहीं लेगी और इस तरह से घटिया चावल सप्लाई करने वाले मिलर्स और गुणवत्ता पास करने वाले अफसरों के गठजोड़ का खुलासा होने से बच जाएगा।

नान के कटनी प्रबंधक पीयूष माली बताते हैं कि चावल की जिस मात्रा को रिजेक्ट किया गया है, उसके नमूने केंद्र की टीम ने नहीं ली है। फिलहाल कुछ दिनों में चावल ज्यादा रिजेक्ट हुआ है। इस बारे में गुणवत्ता निरीक्षकों से जानकारी लेंगे।

ऐसे चला खेल
- बालाघाट और मंडला में केंद्र की टीम ने 30 जुलाई से 2 अगस्त के बीच चावल के नमूने लिए तो जानकारी पूरे प्रदेश में फैली और उसी समय से नान के अफसरों ने गोदाम में जमा खराब चावल को रिजेक्ट करने के लिए ताबड़तोड़ कार्रवाई की।
- कटनी में जुलाई और अगस्त माह में 7-7 मिलर्स के क्रमश: 14 हजार 790 क्विंटल और 11 हजार 890 क्विंटल चावल रिजेक्ट किया गया। जून माह में रिजेक्ट चावल की मात्रा महज 1160 क्विंटल थी।
- दो माह के दौरान ज्यादा चावल इसलिए रिजेक्ट किया गया कि केंद्र की टीम रिजेक्ट चावल के नमूने नहीं लेगी और इस तरह से मिलर्स और नान के अफसरों के गठजोड़ का खुलासा होने से बच जाएगा।
- कटनी में दिल्ली की टीम ने 30 अगस्त से जांच प्रारंभ की, लेकिन उससे चार दिन पहले ही मिलर्स ने चावल की सप्लाई रोक दी। प्रतिदिन गोदाम में 20 से 25 ट्रक चावल देने वाले मिलर्स अब चावल का एक दाना नहीं दे रहे हैं।
- सरकारी धान की मिलिंग के मामले में कटनी प्रदेश का दूसरा बड़ा सेंटर है। 54 से ज्यादा मिलर्स का नान से अनुबंध हैं जो हर साल लाखों क्विंटल चावल जमा करते हैं।
23 अगस्त को गुणवत्ता निरीक्षक कार्य से एक निरीक्षक को किया प्रथक:
मध्यप्रदेश स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन (नान) मुख्यालय भोपाल द्वारा 23 अगस्त को पत्र जारी कर कटनी जिले के स्लीमनाबाद स्थित गोदाम में जमा चावल को गुणवत्ता अनुरूप नहीं पाए जाने पर निरीक्षक हरिओम सोनकर को इस कार्य से अलग किया गया। इस कार्रवाई को भी केंद्र की फटकार से जोड़कर देखा जा रहा है।

यह भी जानें
- 14 लाख 3 हजार 490 क्विंटल धान का उठाव इस सीजन मिलर्स ने किया.
- 8 लाख 60 हजार 359 क्विंटल चावल अगस्त माह तक जमा किया गया.

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned