scriptIdentity was given to sandstone news in katni | सेंड स्टोन को दिलाई पहचान, स्टोन से ही बनी खुद की पहचान | Patrika News

सेंड स्टोन को दिलाई पहचान, स्टोन से ही बनी खुद की पहचान

नगर के राजू खरे ने छोटे स्तर पर शुरू किया था पत्थर का कारोबार, आज देश-विदेश में करते हैं सप्लाई.

कटनी

Updated: November 08, 2021 12:56:11 pm

कटनी. एक जिला एक उत्पाद के तहत कटनी जिले के लिये सेंड स्टोन और मार्बल को शामिल किया गया है। जिले में उपलब्ध मार्बल और सेंड स्टोन को सम्पूर्ण देश में अलग पहचान दिलाने शासन-प्रशासन स्तर पर कार्य किया जा रहा है। कटनी जिले में पाये जाने वाले सेंड स्टोन की डिमांड जिले के साथ ही प्रदेश और देश में है। इसका उपयोग विभिन्न कलाकृतियों के निर्माण के साथ ही आकर्षक निर्माण के लिये काफी पसंद किया जाता है।

Identity was given to sandstone
नगर के राजू खरे ने छोटे स्तर पर शुरू किया था पत्थर का कारोबार.

सेंड स्टोन और मार्बल की कलाकृतियों के निर्माण को प्रोत्साहित करनके उद्देश्य से ही जिले में आगामी 9 नवबर से 28 नवबर तक ''आधारशिला'' स्टोन आर्ट फेस्टिवल का आयोजन भी जिला पुरातत्व एवं पर्यटन विकास समिति द्वारा किया जा रहा है। जिसमें प्रदेश व देश के नामचीन शिल्पकार अपनी सहभागिता कर रहे हैं। नगर के राजू खरे ने छोटे स्तर पर जिले के सेंड स्टोन का कारोबार शुरू किया था।

राजस्थान में एक कारोबारी के यहां कुछ कारीगरों से संपर्क हुआ और उसके बाद उनका कारोबार शुुरू हुआ तो आज पूरे हिन्दुस्तान के साथ विदेशों तक राजू पत्थर की सामग्री सप्लाई कर रहे हैं। राजू ने जहां जिले के सेंड स्टोन को पहचान दिलाई तो आज उनकी पहचान भी जिले का सेंड स्टोन ही है। देश के बड़े-बड़े शहरों के चौराहों से लेकर रिलाइंस के मुंबई ऑफिस तक और विदेशों तक वे स्टोन टाइल्स, स्टैच्यू, आर्च, जालियां, पिलर आदि सप्लाई कर रहे हैं।

उन्होंने बड़वारा में एक छोटी सी मशीन लेकर पत्थर का कारोबार शुरू किया। लगभग 5 लाख रूपये की लागत से शुरू किए गए काम में शुरूआती दौर में कुछ खास फायदा नहीं हुआ। इस बीच उन्होंने नागपुर, कोटा, जयपुर, उदयपुर में कारोबारियों से संपर्क साधा लेकिन सफलता नहीं मिली। छह माह बाद चंडीगढ़ के सेक्टर 45 में बन रही ज्यूडिशियल एकेडमी में दिल्ली के सप्लायर के माध्यम से लगभग 80 हजार फीट पत्थर सप्लाई करने का आर्डर मिला। उसके बाद नागपुर में टुली ग्रुप को कुछ पत्थर सप्लाई किया।

व्यवसायी राजू खरे ने बताया कि उन्होंने उसी दौरान जयपुर में पत्थर के कुछ ब्लाक सप्लाई किए थे। जिसमें संबंधित व्यक्ति से कलर को लेकर कुछ विवाद हुआ। खरे उनसे मिलने जयपुर पहुंचे तो पाया कि जिले के पत्थर से जयपुर के कारीगर जालियां, पिलर, स्टैच्यू आदि तैयार कर रहे हैं। उन्हें कारीगरों से मिलने नहीं दिया गया लेकिन धीरे से वे अपना कार्ड कारीगरों को दे आए। जिसमें से कुछ कारीगरों ने उनसे संपर्क किया और वे कटनी मिलने आए। जयपुर से आए कारीगरों के माध्यम से खरे ने काम प्रारंभ किया। उनकी मुलाकात तत्कालीन कलेक्टर एम. सेल्वेन्द्रन से हुई।

कलेक्टर ने उन्हें कलेक्ट्रेट के नवीन भवन के सामने पहाड़ी पर जिले के सेंड स्टोन से ही गार्डन बनाने का काम दिया और उसके बाद से काम निकल पड़ा। कटनी कलेक्ट्रेट के गार्डन में सेंड स्टोन से कराए गए काम की खूबसूरती देखकर उन्हें सरकारी काम मिलना प्रारंभ हो गए।

उसके बाद सिंगरौली, अनूपपुर, नरसिंहपुर, भोपाल, डिंडोरी, रीवा सहित अन्य शहरों में चौराहों, सरकारी कार्यालयों व घाटों आदि में स्टोन से बनी सामग्री लगाने का काम मिला तो दुबई, यूके, कतर सहित यूरोप के कई शहरों में भी उन्होंने कटनी के सेंड स्टोन से बने टाइल्स, कोबल्स सहित स्टैच्यू, जालियां, पिलर, आर्च, लैंप व अन्य सामग्री सप्लाई की। वर्तमान में उनके द्वारा तैयार की गई कलाकृतियों की पूरे हिन्दुस्तान के साथ देश-विदेश तक डिमांड है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.