पुलिस की शुरू हुई कार्रवाई तो आरटीओ के शिविरों में बनी ये स्थिति...

शहर व ग्रामीण क्षेत्र से परिवहन विभाग के पास पहुंचे दो हजार से अधिक लाइसेंस के फार्म, सत्यापन का कराया जा रहा काम

कटनी. बिना लाइसेंस, हेलमेट के वाहन चलाने वाले चालकों के खिलाफ पिछले दो माह से जिले भर में पुलिस अभियान चलाकर कार्रवाई कर रही है। पुलिस की कार्रवाई से बचने के लिए लोग अपने वाहन संबंधी दस्तावेजों को दुुरुस्त रख रहे ताकि लगने वाले जुर्माने से बचा जा सके। ऐसे में स्कूल, कॉलेज जाने में वाहनों का उपयोग करने वाले छात्र भी लाइसेंस बनवाने में जुटे हैं। परिवहन विभाग ने जुलाई माह के अंतिम सप्ताह से शहर सहित ग्रामीण क्षेत्र के सरकारी व निजी स्कूलों, कॉलेजों में शिविर लगाकर लाइसेंस बनाने का कार्य शुरू किया है। दो माह की अवधि में डेढ़ दर्जन से अधिक स्थानों पर परिवहन विभाग ने शिविर लगाए हैं। जिसमें अभी तक 22 सौ आवेदन विभाग के पास लाइसेंस बनवाने के लिए पहुंच चुके हैं। पूर्व में लगाए गए शिविरों की अपेक्षा इस बार के शिविरों में आवेदन करने वाले छात्रों की संख्या बढ़ी है। परिवहन विभाग पहुंचे आवेदनों के सत्यापन का कार्य कराया जा रहा है। सत्यापन में सही पाए जाने वाले आवेदनों में छात्रों को बुलाकर लर्निंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी गई है।

खपत 440 यूनिट, दिया 31 यूनिट का बिल, फिर भेज दिया हजारों का बिल...
पांच हजार पहुंचेगी आवेदनों की संख्या
अभ्ी तक के शिविरों में कई स्कूलों व कॉलेजों से आवश्यक खानापूर्ति करके आवेदन भी विभाग को अभी नहीं भेजे गए हैं। इसके अलावा अक्टूबर माह की शुरुआत के साथ ही एक बार फिर से शिविर लगाने का काम शुरू होगा। जिसके आधार पर विभाग का अनुमान है कि छात्रों के लर्निंग लाइसेंस की संख्या पांच हजार पहुंच जाएगी।
इनका कहना है...
शिविरों में आवेदनों की संख्या बढ़ी है। अभी तक २२ सौ से अधिक आवेदन आ चुके हैं और उनके सत्यापन का काम कराया जा रहा है। अभी आवेदनों की संख्या और बढ़ेगी।
एमडी मिश्रा, एआरटीओ

mukesh tiwari
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned