अंतिम तिथी 31 अगस्त, 28 की शाम तय हुई बीमा कंपनी

किसानों के फसल बीमा मामले में सामने आई बेपरवाही, जिले में डेढ़ लाख से ज्यादा किसानों ने की है खरीफ की खेती, 6 हजार किसानों के फसल का ही अब तक हो सका है बीमा.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 30 Aug 2020, 11:20 PM IST

कटनी. किसानों की फसल बीमा में प्रीमियम जमा करने के लिए 31 अगस्त अंतिम तारीख है। जानकर ताज्जुब होगा कि इस मामले में राज्य सरकार ने 28 अगस्त की शाम तो बीमा कंपनी तय की है। बीमा कंपनी तय होने के बाद अब तीन दिन में किसानों के फसल बीमा करने की बात कही जा रही है। इस साल जिलेभर में 1 लाख 75 हजार हेक्टेयर में धान बोनी हुई है।

यहां करीब डेढ़ लाख से ज्यादा किसानों ने खरीफ की खेती की है। इसमें से अब तक उन्ही किसानों के फसल बीमा हुआ है, जिन किसानों ने खेती के लिए ऋण लिया है। ऐसे किसानों की संख्या महज 6 हजार है। किसानों का कहना है कि उनके फसल बीमा में हर साल ही सरकार का रवैया उदासीन होता है, इसका नुकसान प्राकृतिक आपदा व अन्य कारणों से अच्छी फसल नहीं होने के बाद किसानों को ही उठाना पड़ता है।

कृषि विभाग के उपसंचालक एके राठौर के अनुसार फसल बीमा के लिए बीमा कंपनी आगे नहीं आ रहीं थीं। चार बार टेंडर निकालने के बाद 28 अगस्त की शाम को एग्रीकल्चर इंश्यूरेंस कंपनी ने फसल बीमा का टेंडर लिया है। अब 31 अगस्त तक ज्यादा से ज्यादा किसानों का फसल बीमा करवाने का प्रयास किया जा रहा है।

कलेक्टर एसबी सिंह बताते हैं कि कृषि और बैंक के अधिकारियों की बैठक लेकर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और जय किसान फसल ऋण माफी योजना की क्रेडिट एन्ट्री के संबंध में निर्देश दिए हैं। 31 अगस्त तक अधिक से अधिक किसानों का प्रीमियम जमा करवाने कहा गया है। उप संचालक कृषि और बैंक प्रमुख प्रतिदिन किये गये कार्य की समीक्षा कर शाम को रिपोर्ट सौंपेंगे। जिला सहकारी बैंकों को 10 हजार ऋण लेने वाले किसानों को फसल का बीमा कराने कहा गया।

यह भी जानें
- 5 हजार 858 किसानों की फसल का बीमा जिला सहकारी बैंक ने किया है। राष्ट्रीयकृत बैंक 31 अगस्त के बाद जानकारी देंगे।
- 15 हजार 211 ऋणी किसान और 415 अग्रणी किसानों का बीमा खरीफ 2019 में बीते वर्ष किया गया था। 1 करोड़ 40 लाख रुपये की राशि प्रीमियम के रुप में जमा हुई है।
- 1258 किसानों को खरीफ 2018 में फसल बीमा के बाद क्लेम राशि खाते में जमा कराया जा चुका है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned