पीएम आवास में भ्रष्टाचार शिकायत की जांच आठ माह बाद भी अधूरी

नगर निगम आयुक्त बोले ठेकेदार नहीं कर रहा जांच में सहयोग, बुधवार को ही डिवीजन के कार्यपालन यंत्री को लिखा पत्र.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 16 Oct 2020, 11:11 AM IST

कटनी. पीएम आवास योजना में शहर में निर्माणाधीन आवासीय प्रोजेक्ट में कार्य के दौरान मानकों की अनदेखी और शिकायत के 8 माह बाद भी जांच में लापरवाही बरतने व जांच पूरी नहीं करने का मामला सामने आया है। यहां झिंझरी और प्रेमनगर में 4 हजार 312 आवास निर्माण के दो प्रोजेक्ट में ठेेकेदार द्वारा खुलेआम मानकों की अनदेखी की गई।

इसकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन और विभागीय उच्चाधिकारियों से करने के बाद प्रदेशस्तर पर जांच टीम बनी। जांच टीम द्वारा आठ माह में जांच पूरी नहीं होने पर सवाल उठ रहे हैं। नगर निगम के आयुक्त इस पूरे मामले में बुधवार को ही डिवीजन के कार्यपालन यंत्री को पत्र लिखने की बात कही है। आयुक्त का कहना है कि ठेकेदार जांच में सहयोग नहीं कर रहा है।

बतादें कि शहर में प्रेमनगर व झिंझरी में पीएम आवास योजना के तहत निर्माणाधीन प्रोजेक्ट एक साल बाद भी अधूरा है। दोनों ही प्रोजेक्ट के पूरा होने की अवधि एक साल पहले ही समाप्त हो चुकी है। अब तक 60 फीसदी काम शेष है। 117.46 करोड़ रुपये की लागत से बिलहरी मोड़ झिंझरी में बीआरपी एसोसिएट ने 30 नवंबर 2017 को निर्माण का अनुबंध कराया। 18 माह में निर्माण पूरा होना था। 1436 इडब्ल्यूएस और 636 एलआइजी भवनों के निर्माण के लिए प्रेमनगर में चल रहा प्रोजेक्ट भी अधूरा है।

प्रधानमंत्री आवास योजना में मानकों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए अनुराग गोस्वामी ने बताया कि यहां निर्माण के दौरान नीव में फिलिंग मुरूम से करने के बजाए पत्थर के बड़े टुकड़ों से किया गया। जांच में कभी भी इसकी पुष्टि की जा सकती है। लेकिन जांच टीम के सदस्य पूरे मामले में लीपापोती कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सीएम हेल्पलाइन में भी गलत जानकारी देकर शिकायत को जबरिया बंद किया जा रहा है।

नगर निगम आयुक्त सत्येंद्र धाकरे बताते हैं कि इस मामले में जांच के दौरान बड़ा कैलुकेशन होना है। संभागीय संयुक्त संचालक की अध्यक्षता में प्रदेशस्तरीय जांच टीम बनी है। ठेकेदार को कई बार कहने के बाद भी वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। अब जांच के लिए टीम फोर्सफुली अंदर जाएगी। उम्मींद है जल्द ही जांच पूरी कर आगे की कार्रवाई होगी।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned