mpkamahamukabla : पत्रिका जन एजेंडे की बैठक में बोले क्षेत्रवासी-बेरोजगारी हो दूर, स्वास्थ्य व शिक्षा व्यवस्था में हो सुधार

mpkamahamukabla : पत्रिका जन एजेंडे की बैठक में बोले क्षेत्रवासी-बेरोजगारी हो दूर, स्वास्थ्य व शिक्षा व्यवस्था में हो सुधार

Dharmendra Pandey | Publish: Sep, 16 2018 10:00:17 PM (IST) Katni, Madhya Pradesh, India

विजयराघवगढ़ विधानसभा क्षेत्र के नगर परिषद क्षेत्र कैमोर में जन घोषण पत्र 2018-23 पर की चर्चा

 

कटनी. विधानसभा क्षेत्र विजयराघवगढ़ के अंतर्गत आने वाले नगर परिषद क्षेत्र कैमोर स्थित पेट्रोल पंप पर रविवार को पत्रिका जन एजेंडा की बैठक हुई। इसमें मौजूद वरिष्ठ नागरिक, अधिवक्ता, समाजसेवी, किसान व युवाओं ने हिस्सा लिया। विधानसभा क्षेत्र के विकास को लेकर बनने वाले जन घोषणा पत्र 2018-23 पर चर्चा की। बैठक में क्षेत्रीय युवाओं को रोजगार से जोडऩे और स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने को प्राथमिकता से शामिल किया गया। बैठक में कॉर्डिनेटर ब्रह्ममूर्ति तिवारी व आशीष चक्रवर्ती रहे। क्षेत्रवासियों ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र होने के बाद भी युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। दूसरे राज्यों में जाकर क्षेत्र के पढ़े-लिखे बेरोजगार युवा काम कर रहे हैं। स्वास्थ्य सुविधाएं भी बेहतर नहीं है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, उपस्वास्थ्य केंद्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तो खोल दिए गए हैं, लेकिन डॉक्टरों की नियुक्ति नहीं की गई। ऐसे में बेहतर उपचार की सुविधा नहीं मिल पा रही है। सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमीं को दूर किया जाए। शिक्षा व्यवस्था को मजबूत करने की सख्त जरूरत है। शिक्षकों से पढ़ाई के अलावा कोई कार्य न कराया जाए। किसानों के लिए सरकार अलग से नीति बनाए। किसानों से उपज तो सरकार खरीद लेती है, लेकिन बेची गई उपज का समय पर भुगतान नहीं हो पाता। कई माह तक किसानों को चक्कर लगाना पड़ता है। सुधार किया जाए। क्षेत्र के किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचे।
ये रहे शामिल
जन एजेंडा की बैठक के दौरान राजेश पटेल, राजेश चक्रवर्ती, क्वाडिनेटर ब्रम्हमूर्ति तिवारी, रितिक अरोरा, सतीश बढ़ोलिया, कपिल अग्रवाल, प्रिंसू ठाकुर, अजय कोल, रामदास केवट, विजय पटेल, सतीश सिंह, आशीष दुबे, आशीष शुक्ला, सतीश नामदेव, मनोज असाटी, आशीष चक्रवर्ती, आजेश तिवारी, राजेंद्र गुप्ता, डॉ.एके सिंह सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

ये मुद्दे आए सामने
- औधोगिक क्षेत्र होने के बाद भी रोजगार के अवसर न होना।
- रोजगार उपलब्ध कराने बेहतर प्लानिंग हो।
- स्वास्थ्य सुविधाएं भी बेहतर हों।
- डॉक्टरों की स्वास्थ्य केन्द्रों में पदस्थापना।
- सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर हो।
- किसानों के लिए सरकार अलग से नीति बनाए।
- किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचे।
- जर्जर मुख्य सड़कें बेहतर बनाई जाएं।

 

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned