मुख्यमंत्री के माफिया दमन में आंकड़ों की बाजीगरी

दो माह में एक भी प्रभावी कार्रवाई नहीं होने से उठ रहे सवाल.

कलेक्टर आवास के सामने स्थित कॉलोनी से लेकर शहर में कई स्थानों पर सक्रिय हैं भूमाफिया.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 07 Mar 2020, 11:11 AM IST

कटनी. प्रदेश के मुखिया कमलनाथ के माफिया दमन अभियान में दो माह के दौरान एक भी प्रभावी कार्रवाई नहीं होने के बाद अब जिले में चल रहे इस पूरे अभियान पर ही सवाल उठ रहे हैं। नागरिकों का कहना है कि यहां शहर से लेकर जिले में कहीं भी नहीं लग रहा है कि मुख्यमंत्री के आदेश पर माफिया दमन अभियान चल रहा है। शहर में कलेक्टर आवास के सामने स्थित कॉलोनी के अंदर से निकली नाले को बिल्डर ने ढलाई कर ढंक दिया। प्राकृतिक स्वरुप से भी खिलवाड़ किया।

लाल पहाड़ी में खुलेआम घास और पहाड़ में दर्ज जमीन का पट्टा बनाकर खुर्द बुर्द किया जा रहा है। कब्जा किया जा रहा है। लल्लू भइया की तलैया राजस्व रिकॉर्ड में तालाब दर्ज है। फिर भी यहां खुलेआम अतिक्रमण का खेल खेला जा रहा है और जिम्मेंदार आंख मूंदे बैठे हैं। कार्रवाई भी दिखावा साबित हो रहा है।
मुख्यमंत्री के टॉप प्रायोरिटी वाले माफिया दमन अभियान में आंकड़ों की बाजीगरी का आलम यह है कि फरवरी के दूसरे सप्ताह तक प्रशासन ने भू माफिया पर कार्रवाई के आंकड़े 151 से पार बता दिया। यह अलग बात है कि इस दौरान शहर से लेकर जिले में एक भी बड़ी कार्रवाई नहीं हुई। अभियान में आंकड़ों की बाजीगरी का यही खेल शुद्ध के लिए युद्ध अभियान सहित परिवहन और शराब माफिया के खिलाफ चले अभियान पर चल रहा है।

कार्रवाई जिन पर उठे सवाल
- माधवनगर में डर्बी होटल तोडऩे पहुंचा अमला सील कर ही लौट आया। इस पूरी कार्रवाई पर जिला प्रशासन के आला अफसरों पर उंगली उठी।
- तिलक कॉलेज के समीप शासकीय जमीन पर अतिक्रमण नहीं हटने से कॉलेज विस्तार पर असर पड़ रहा है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned