scriptKatni girl trapped in Ukraine | VIDEO: यूक्रेन में फंसी शहर की बेटी, मां ने कहां सेना के बंकर में छिपकर बचा रही जान, वतन वापसी की गुहार | Patrika News

VIDEO: यूक्रेन में फंसी शहर की बेटी, मां ने कहां सेना के बंकर में छिपकर बचा रही जान, वतन वापसी की गुहार

फोन से टूट रहा संपर्क, सोशल मीडिया के माध्यम से मिल रहे संदेश, बेटी बता रही यूके्रन में हैं गंभीर हालात, 2019 से यूक्रेन में कर रही पढ़ाई, टर्नोपिल नेशनल यूनिवर्सिटी में कर रही एमबीबीएस

कटनी

Updated: February 26, 2022 05:35:17 pm

कटनी. रूस और यूक्रेन के बीच जंग छिड़ गई हैं और इस युद्ध के बीच में कटनी शहर की एक बेटी भी यहां फसी हुई है। गल्र्स कॉलेज में पदस्थ लैब टेक्नीशियन हेमलता सिंह की पुत्री सुनिधि यूक्रेन में मेडिकल की पढ़ाई कर रही है। छात्रा और उसकी मां ने शासन-प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है। बता दें कि उनकी बेटी सुनिधि यूक्रेन में टर्नोपिल नेशनल यूनिवर्सिटी में मेडिकल की पढ़ाई 2019 से कर रही हैं। यूक्रेन में हो रहे हमले, बम धमाकों की खबर सुनते ही मां और पिता का भी मन दहल रहा है और दोनों बेटी को सुरक्षित वतन वापसी की मांग कर रहे हैं। सुनिधि का मां ने पत्रिका से खास बातचीत में पूरे हालात बयां किए हैं।
जानकारी के अनुसार गल्र्स कॉलेज में लैब टैक्नीशियन हेमला सिंह पति अजय कुमार सिंह की 22 वर्षीय बेटी सुनिधि सिंह टर्नोपिल नेशनल यूनिवर्सिटी में रहकर एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही हैं। इस साल उनका तृतीय वर्ष है। 2019 से मेडिकल की पढ़ाई के लिए यूक्रेन गई थीं और टर्नोपिल नेशनल यूनिवर्सिटी में एडमीशन लेकर यूकेन के हाउस नंबर 13, स्ट्रीट रसका बिल्डिंग 7 टर्नोपिल सिटी में भारत की ही 3 अन्य छात्राओं के साथ एक मकान में किराए से रही हैं।

VIDEO: यूक्रेन में फंसी शहर की बेटी, मां ने कहां सेना के बंकर में छिपकर बचा रही जान, वतन वापसी की गुहार
VIDEO: यूक्रेन में फंसी शहर की बेटी, मां ने कहां सेना के बंकर में छिपकर बचा रही जान, वतन वापसी की गुहार

नेट व नेटवर्क की बढ़ रही समस्या, बिजली हो जा रही बंद
पत्रिका से चर्चा के दौरान सुनिधि की मां हेमलता सिंह ने कहा कि बेटी से हर दिन बात हो रही थी, लेकिन वहां पर अब नेट व नेटवर्क की समस्या हो गई है। हालांकि बीच-बीच में वाट्सएप के माध्यम से बात हो रही है। मोबाइल से कई बार कनेक्टिविटी बंद हो जा रही है, जिससे चिंता और भी बढ़ जाती है। हेमलता सिंह ने कहा कि सरकार से यही अपेक्षा है कि सिर्फ हमारी बेटी ही नहीं भारत के जितने भी बच्चे वहां फंसे हुए हैं, वे सुरक्षित वापस आएं। उन्हें लाने के लिए शीघ्र सार्थक प्रयास हों। हेमलता सिंह का कहना है कि अभी तक जनप्रतिनिधियों व जिला प्रशासन ने कोई संपर्क नहीं किया। वे खुद जाकर गुहार लगाएंगी। मीडिया के माध्यम से खबर फैलने के बाद भी संपर्क नहीं किया गया है। हमें यह उम्मीद है कि सरकार अपने स्तर पर काम कर रही होगी, लेकिन इसमें शीघ्रता हो और सार्थक परिणाम में बदला जाए।

ये हैं हालात: सायरन बजा, बंकर में छिपकर बचाई जान
- मां हेमलता ने बताया कि बेटी ने कहा कि रात में सेना का सायरन बजा और अलाउंस हुआ कि सुरक्षित रहने के लिए सेना के बंकर में आएं तो फिर बंकर में जाकर छिपे।
- यूक्रेन में लगातार मैसेज मिल रहे हैं कि आसपास धमाके हो रहे हैं, क्राइसेसे की संभावना थी, लेकिन वार्डर तक ही युद्ध होने की बात मानी जा रही थी, 22 फरवरी से हालात बिगड़ गए हैं।
- बच्चों ने पहले से खरीददारी कर ली है, इसलिए राशन खाद्यान की समस्या तो नहीं है, लेकिन निकट भविष्य में गैस की समस्या निर्मित हो जाएगा, दहशत में खानी-पीना भी बेटी ठीक से नहीं खा पा रही होगी।
- बेटी के अनुसार हालात बहुत ज्यादा खराब हैं, युद्ध वाले भयानक हालात हैं, भारत आने के लिए टिकट बुक हुई थी, लेकिन वह एक्सपायर हो गई और बेटी वापस नहीं आ पाई।

15 फरवरी को वापसी के लिए चल गया था मैसेज
बताया जा रहा है कि रूस द्वारा यूक्रेन में की जा रही घुसपैठ और हमले की बात के बाद जैसे ही युद्ध के हालात निर्मित होने शुरू हो गए तो 15 फरवरी के आसपास से एम्बेसी के द्वारा बाहरी लोगों को सुरक्षित वतन वापसी के लिए मैसेज चला गया था। बताया जा रहा है कि कॉलेज प्रबंधनों द्वारा क्लासें बंद नहीं की गई थीं और लोगों ने यह कल्पना नहीं की थी कि वाकई युद्ध होने लगेगा, इसको लेकर बच्चे पढ़ाई पर डटे रहे, इसी वजह से सुनिधि भी पढ़ाई में ही डटी रहीं।

डरी हुई है बेटी व सहेलियां
हेमलता सिंह का कहना है कि बेटी सुनिधि का कहना है कि वो और उसकी सहेलियां डरी और सहमी हुई हैं वे भी भारत की हैं। उन्हें कुछ भी समझ नहीं आ रहा कि इन कठिन परिस्थितियों वह किससे मदद की गुहार लगाएं। यहां इंडियन एम्बेसी से संपर्क करने पर अभी तक कोई सहायता नहीं की गई। हालांकि तीनों सहेलिया अपने घर के अंदर ही हैं। हेमलता सिंह ने बताया कि पिछले साल सितंबर में वह भारत आई थी और कटनी में कुछ दिन के लिए घर पर भी रुकी थी, इसके बाद वह वापस यूक्रेन चली गई, तभी से वह वहां पर है। सुनिधि ने मां से कहा है कि पिछले कुछ दिनों से यहां की स्थितियां काफी तनावपूर्ण बनी हुई हैं। रूस के हमले के बाद से ही यहां काफी दहशत का माहौल बना हुआ है। आसमान से कब कौन सा मिसाइल यहां गिर जाए, इसको लेकर लोग डरे हुए हैं। दूसरे देशों के लोगों को वतन वापसी के लिए भी कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। सुनिधि ने यह भी कहा कि यहां बड़ी संख्या में मेडिकल के छात्र हैं, जो पढ़ाई कर रहे हैं। सभी डरे और सहमे हुए है।

सांसद ने की विदेश मंत्री से बात
बता दें कि शासन-प्रशासन स्तर पर भी लोगों को यूक्रेन से सुरक्षित वापस लाने प्रयास शुरू हो गए हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व कटनी-खजुराहो सांसद वीडी शर्मा ने कटनी की बेटी को सुरक्षित वापस लाने के लिए केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन से बात की है। कहा कि विद्यार्थियों की सुरक्षित वतन वापसी होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.