IPL शुरू होने से पहले ही पुलिस ने क्रिकेट पर सट्टा खेलने व खिलाने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़

-सरगना भी चढ़ा पुलिस के हत्थे

By: Ajay Chaturvedi

Published: 17 Sep 2020, 03:09 PM IST

कटनी. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) शुरू होने में अभी दो दिन शेष हैं, यह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट लीग शुरू होने से पहले ही सट्टेबाज मुस्तैद हो गए हैं। उधर शासन-प्रशासन ने भी हर साल की तरह अपनी तैयारी कर रखी है कि किसी सूरत में सट्टेबाजी नहीं होने देंगे। इस बीच क्रिकेट के रोमांच के बीच हार-जीत और चौके-छक्के व विकेट गिरने को लेकर सट्टेबाजी की बिसात भी बिछने लगी है। ऐसे ही सट्टेबाजों के एक गिरोह का भंडाफोड़ कटनी पुलिस ने किया है। इसमें चार लोगों की गिरफ्तारी हुई है। फिलहाल पुलिस उनके पास से जब्द सामग्री के माध्यम से गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी की कोशिश में जुट गई है। हालांकि पुलिस के अनुसार यह गिरोह सीपीएल क्रिकेट के मैचों के लिए सट्टा खिलाने का काम कर रहा था।

जानकारी के मुताबिक माधवनगर पुलिस ने क्षेत्रीय निवासी जय जगयासी जो इस सट्टा गिरोह का सरगना बताया जा रहा है के साथ कुल चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से लैपटॉप, चार मोबाइल फोन के अलावा 82 हजार रुपये नकद बरामद किए गए हैं। पुलिस के मुताबिक जब्त लैपटॉप व स्मार्ट फोन में सट्टा बुकिंग के रिकार्ड सुरक्षित हैं जिनसे इस रैकेट के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल हो सकेगी।

कटनी में गिरफ्तार सट्टा गिरोह के सदस्य

टीआई संदीप अयाची के मुताबिक नशीली दवा और सट्टा का गोरखधंधा चलाने वालों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के दौरान इस गिरोह का पता चला। जानकारी मिली कि हॉस्पिटल लाइन निवासी जय जगयासी ने कटनी से सट्टे की बुकिंग करने के लिए सतना के चार लोगों को अपने रैकेट में जोड़ रखा था। यह बुकिंग सीपीएल क्रिकेट के दौरान चौके छक्के लगाने व विकेट लेने के लिए की गई थी। सतना के जय जीवानी, रोशन दीवानी, मोहन नावानी, कैलाश शिवानी के पास से मिले मोबाइल में बुक की गई बाजियां दर्ज हैं। कुल 82 हजार की नकदी मौके से मिली है।

यह सफलता रात लगभग दो से तीन बजे के बीच माधवनगर पुलिस टीम के अभिषेक उपाध्याय, रामेश्वर सिंह, शिवकुमार, रवींद्र दुबे, मणि बागरी ने जय के घर पर दबिश दे कर हासिल की।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned