खरीफ खेती-2021: दो लाख 17 हजार हेक्टेयर में होगी बोवनी, धान का रखा गया सर्वाधिक लक्ष्य

मक्का, उड़द, अरहर व तिल में भी हाथ आजमाएंगे किसान, धान की नर्सरी हो रही तैयार, सूखी फसलों की भी बोवनी शुरू, बारिश कम होने से सूखी फसलों को बो रहे किसान

By: balmeek pandey

Published: 27 Jun 2021, 04:47 PM IST

कटनी. कृषि मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार इस साल जिले में मेघ मेहरबान रहेंगे। सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान है। अभी तक की हुई बारिश में सामान्य से अधिक बारिश हो चुकी है। इसलिए पिछले वर्ष की तुलना में खेती का थोड़ा रकबा और भी बढ़ गया है। बता दे कि 2020 में 213.4 हजार हेक्टेयर में खरीफ की बोवनी हुई थी, जिसे कृषि विभाग ने इस बार बढ़ा दिया है। यह यह रकबा बढ़कर 2174.2 हजार हेक्टेयर पहुंच गया है। सबसे ज्यादा खेती धान की होगी। इस बार 190 हजार हेक्टेयर में किसान धान की खेती करेंगे, जबकि 2020 में 187.3 हजार हेक्टेयर में धान की खेती हुई थी। मानसून सक्रिय होते ही अन्नादाता भी सक्रिय हो गया है। खेतों को तैयार करने सहित धान की नर्सरी बड़ी मात्रा में तैयार की जा चुकी हैं। लगातार धान की नर्सरी किसान तैयार कर रहे हैं।
बता दें कि किसानों को खेती के लिए सबसे ज्यादा परेशानी उर्वरक को लेकर होती है। हालांकि कृषि विभाग व प्रशासन द्वारा अभी पर्याप्त भंडारण बताया जा रहा है। जिले में काम्पलेक्स 300 मेट्रिक टन की जरुरत है वहीं पोटाश 500 मेट्रिक टन, एसएसपी 7 हजार मेट्रिक टन की आवश्यकता है। यूरिया 28 हजार मेट्रिक टन, डएसपी 19 हजार मेट्रिक टन चाहिए है, जिसमें से 11 हजार 396 मेट्रिक टन यूरिया, 4 हजार 416 मेट्रिक टन डीएपी उपलब्ध है। इस साल बेहतर बारिश होने से अच्छी पैदावान होने की किसानों व कृषि विभाग को उम्मीद है।

भूमि उपयोग की यह स्थिति
- शुद्ध कृषि क्षेत्र- 239.1 हजार हेक्टेयर
- द्विफसली क्षेत्रफल-199.1 हजार हेक्टेयर
- सिंचित क्षेत्रफल- 223.7 हजार हेक्टेयर
- फसल सघनता 183 प्रतिशत
- पड़त भूमि- 18.5 हजार हेक्टेयर

यह है जिले में बोवनी का लक्ष्य (हजार हेक्टेयर में)
फसल पूर्ति 20 लक्ष्य 21
धान 187.3 190
मक्का 2.6 2.8
ज्वार 00.1 00.1
कोदो 00.5 00.6
उड़द 5.8 6.00
मूंग 1.2 1.5
अरहर 3.6 3.8
तिल 12.4 12.5
सोयाबीन 00.1 00.2
----------------------------
योग 213.4 217.2
----------------------------

यह है बीज की व्यवस्था (क्विंटल में)
फसल जरुरत पूर्ति
धान 42000 34500
मक्का 550 450
ज्वार 5 5
कोदो 50 20
उड़द 750 600
मूंग 200 130
अरहर 500 350
तिल 200 120
सोयाबीन 10 10
----------------------------
योग 44265 36185
----------------------------

सिहुडी बसेड़ी में शुरू हुई खेती
बहोरीबंद तहसील क्षेत्र के ग्राम सिहुड़ी बसेड़ी में भी खेती का दौर शुरू हो गया है। किसान बताते हैं कि कुछ दिन पूर्व हुई बारिश में मौसम के खुल जाने से किसानों को जुताई के लिए जमकर फायदा हुआ है। किसानों ने बताया कि यदि एक हफ्ते और अच्छी धूप रही तो जुताई के बाद खेत में जो घास उगती है वह पूरी सूख जाएगी और कचरा भी साफ हो जाएगा। बहोरीबंद तहसील क्षेत्र में किसानों ने ट्रैक्टर जुताई के साथ धान का रोपा भी डालना भी शुरू कर दिया है।

इनका कहना है
जिले में इस साल लगभग 4 हजार हेक्टेयर रकबा खरीफ का बढ़ा है। बोवनी का लक्ष्य निर्धारित हो चुकी है। किसान बोवनी भी शुरू कर चुके हैं। धान की नर्सरियां तैयार हो रही हैं। मुख्य रूप से धान की ज्यादा खेती होगी। उर्वरक व बीज उपलब्ध हैं। मौसम को देखते हुए किसानों को खेती की सलाह दी जा रही है।
एके राठौर, उपसंचालक कृषि।

balmeek pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned