मानसिक विक्षिप्त युवक का इलाज नहीं करने पर देर रात हंगामा

मानसिंक विक्षिप्त युवक को लेकर अस्पताल पहुंचे थे युवक, सीएस बोले धैर्य की है जरूरत

By: Hitendra Sharma

Updated: 13 Oct 2020, 08:58 AM IST

कटनी. शहर में घूम रहे एक मानसिक विक्षिप्त युवक को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराने वाली युवाओं ने ड्यूटी डाक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया तो जिला अस्पताल के सिविल सर्जन ने कहा इलाज चल रहा है उसके कान से कीड़े निकल रहे हैं जो 7 दिन तक निकल सकते हैं, और ऐसे मामले में धैर्य की जरूरत है.
सोमवार रात अस्पताल गेट पर नारेबाजी कर युवाओं ने बताया कि मानसिक विक्षिप्त युवक के सिर पर कीड़े पड़ने के बाद इलाज में जिला अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आई। मानसिक विक्षिप्त युवक की पीड़ा देखकर शहर के युवा आगे आए और उसे अस्पताल में ले जाकर भर्ती किया।

युवाओं ने बताया कि अस्पताल में 2 दिन से भर्ती मानसिक विक्षिप्त युवक के इलाज को लेकर डाक्टरों ने कोई ध्यान नहीं दिया। युवाओं को जब लगा कि ऐसे तो उसकी मौत हो जाएगी तो वे स्वयं ही सामने आए और डॉक्टरों के इस रवैए पर विरोध दर्ज कराया। इस पर भी डॉक्टर इलाज को लेकर सजग नहीं दिखे तो युवाओं ने स्वयं ही खड़े होकर बाल कटवाया और कीड़े निकालवाने की कोशिश की।

शहर के युवाओं को जब लगा कि इस मानसिक विक्षिप्त युवक के इलाज में डॉक्टर ध्यान नहीं देंगे तो स्वयं ही इमरजेंसी कक्ष में खड़े होकर उसके कान के कीड़ों को निकलवाने का प्रयास किया। युवाओं ने सोमवार रात डॉक्टरों के रवैये पर विरोध दर्ज कराते हुए अस्पताल के गेट के बाहर नारेबाजी भी की।

नागरिकों ने की सराहना
मानसिक विक्षिप्त युवक की पीड़ा देखकर उसे अस्पताल में भर्ती कराने वाले युवाओं के इस पहल की सराहना शहर के ज्यादातर नागरिकों ने की है। स्थानीय नागरिकों ने बताया कि मानवता की सेवा के लिए ऐसे प्रयास होते रहने चाहिए।

कलेक्टर को नहीं दिखी कमी

जिला अस्पताल में मरीजों के इलाज में उपलब्ध सुविधाओं और सेवाओं का जायजा लेने के लिए सोमवार शाम कलेक्टर एसबी सिंह अस्पताल के निरीक्षण पर पहुंचे थे। यहां भर्ती मरीज और परिजनों ने बताया कि कलेक्टर ने निरीक्षण तो किया लेकिन वो यह नहीं देख पाए कि यहां डॉक्टर मरीजों के इलाज में किस तरह से लापरवाही बरत रहे हैं।

हम ध्यान दे रहे हैं
जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. यशवंत वर्मा ने बताया कि मानसिक विक्षिप्त युवक के इलाज में अस्पताल प्रबंधन पूरा ध्यान दे रहा है। सोमवार को कलेक्टर के दौरे के कारण आरएमओ उनके साथ चले गए और इस कारण इलाज में थोड़ा विलंब हुआ, जिसके बाद युवाओं ने विरोध दर्ज कराया। हमने उन्हें बता दिया है कि इस पूरे मामले में धैर्य की जरूरत है। मानसिक विक्षिप्त युवक के कान से 7 दिन तक कीड़े निकल सकते हैं।उसका इलाज चल रहा है।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned