कटनी में बिक रहे दूध में निकली फैट की कम मात्रा, दही, पनीर व मावा भी अमानक

32 दिन में भोपाल से आई जांच रिपोर्ट में हुआ खुलासा, 23 नमूने की हुई जांच, खाद्य सुरक्षा विभाग ने जारी किया नोटिस

By: dharmendra pandey

Updated: 05 Sep 2019, 12:12 PM IST

कटनी. जिले में बिक ने वाले दूध व उससे बने हुए पदार्थ अमानक पाए गए हैं। दूध में फैट की मात्रा कम निकली हैं। यानि दूध कारोबारियों द्वारा पहले फैट को निकाल लिया जाता है और फिर पानी मिलाकर ग्राहकों को बेचा जाता था। इसके अलावा दही, पनीर व मावा में भी गड़बड़ी मिली है। इसका खुलासा राज्य प्रयोगशाला भोपाल से आईं हुई रिपोर्ट पर हुआ है। प्रदेशभर में मिलावटी खाद्य पदार्थों को लेकर कार्रवाई की जा रही है। दूध, दही, मावा व पनीर के सैंपल लिए जा रहे हैं और जांच के लिए भोपाल स्थित प्रयोगशाला में भेजा जा रहा है। सोमवार को भोपाल से आई रिपोर्ट मेें दूध, दही, पनीर व मावा से मिले 23 नमूने फेल हो गए हैं।

32 दिन में लिए 175 से अधिक सैंपल
सिंथेक्टि दूध बिकने का मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ प्रदेश सरकार सख्त हुई और कार्रवाई करने के निर्देश दिए। जिले में भी अभियान चलाकर दूध, दही, मावा व पनीर का कारोबार करने वाले कारोबारियों के यहां छापामार कर सैंपल लिए गए। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग ने 22 जुलाई से शुरू हुए अभियान के तहत 3 सितंबर तक 175 से अधिक सैंपल लिए। इसमें से पहले भेजे गए 37 नमूनों में से 23 की रिपोर्ट भोपाल से आ गई है।

तीन दल मिलकर कर रहे कार्रवाई
जिले में मिलावटी खाद्य पदार्थ का कारोबाार करने वाले कारोबारियों पर कार्रवाई के तीन टीमें काम कर रहीं हैं। इसमें राजस्व, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग व खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के 20 से अधिक अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं। जो दुकानों में पहुंचकर छापा मार कर जांच के लिए नमूने ले रहीं हैं।

-राज्य प्रयोग शाला भोपाल से 23 नमूनों की जांच रिपोर्ट आ गई है। जिसमें फैट की मात्रा कम निकली है। सभी 23 कारोबारियों को नोटिस भेजा रहा है। रिपोर्ट से अगर कारोबारी संतुष्ट नहीं है तो वह मैसूर व पुणे की केंद्रीय प्रयोगशाला से जांच करवा सकता है। कार्रवाई की जाएगी।
डीके दुबे, खाद्य सुरक्षा अधिकारी।

dharmendra pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned