मशीन पर लगेगा अंगूठा तभी मिलेगा राशन

जिले की 455 राशन दुकानों में फरवरी माह से शुरू होगी ऑनलाइन प्रणाली


कटनी। कंट्रोल दुकानों में पदस्थ सेल्समैन अब उपभोक्ताओं के राशन की चोरी नहीं कर सकेंगे। न ही उपभोक्ताओं के राशन कार्ड घर पर रखकर उसमें फर्जी हस्ताक्षर कर पाएंगे। क्योंंकि कंट्रोल दुकानों में अब थंब मशीन से अंगूठा लगाने के बाद ही उपभोक्ताओं को राशन मिलेगा। 
जिले में यह व्यवस्था फरवरी माह से शुरू हो जाएगी। दुकान में चला रहा सेल्समैन ग्राहकों को बिल भी देगा। इसके साथ ही उपभोक्ता जिले के किसी भी कंट्रोल दुकान से राशन भी ले सकेगा। जिले में वर्तमान में संचालित 455 कंट्रोल दुकानों में थंब मशीन लगाई जाएगी। 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत खाद्य एवं आपूर्ति विभाग फरवरी माह से थंब मशीनों से उपभोक्ताओं को राशन देने की प्रक्रिया शुरू कर रहा है। अंगूठा लगवाकर राशन देने की योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए विभाग ने तैयारियां भी शुरू कर दी है। 

थंब इम्प्रेशन मशीन में अंगूठा लगवाकर उपभोक्ताओं का राशन कैसे दिया जाएगा। इसके लिए जिले के तीन कनिष्ठ सहायक आपूर्ति अधिकारी भोपाल में प्रशिक्षण भी ले चुके  हैं। ताकि जिले के सेल्समैनों को प्रशिक्षित कर सके। अफसरों के मुताबिक उपभोक्ता राशन खरीदी का बिल जरूर ले। बिल में लिखी राशि का ही भुगतान करे। 
सेल्समैन द्वारा तौले जा रहे राशन पर ध्यान दे। इसके साथ ही जिले के किसी भी दुकान से राशन लेने के लिए उपभोक्ता अपने आधार कार्ड राशन कार्ड से लिंक कराए। ताकि उपभोक्ताओं को दूसरे कंट्रोल दुकान से राशन मिल सके। 
 
मशीन में फीड होगा डाटा
राशन की कालाबाजारी को रोकने के लिए कंट्रोल दुकानों में लगाई जाने वाली थंब मशीनों में उपभोक्ताओं का डाटा फीड किया जाएगा। इसके बाद ही राशन दिया जाएगा। डाटा फीड होने के बाद ग्राहक दूसरे के नाम का राशन भी नहीं ले सकेगा। 

ग्राहक का नाम पुकारेगी मशीन
उपभोक्ता के दुकान पर पहुंंचते ही सेल्समैन उसका अंगूठा मशीन पर लगवाएगा। अंगूठा लगाते ही मशीन उपभोक्ता का नाम पुकारेगी। मशीन में उपभोक्ता का नाम, सदस्य संख्या का विवरण और राशन की मात्रा की जानकारी और राशन की कीमत आ जाएगी। सेल्समैन मशीन के फार्मेट के आधार पर उपभोक्ता को सही राशन तौलकर देगा। राशन मिलते ही उपभोक्ता को बिल भी मिलेगा। बिल मिलने के बाद उपभोक्ता राशन का बिल भरेगा। 

सारा काम होगा ऑनलाइन
विभागीय अफसरों के मुताबिक उपभोक्ता को मशीन पर थंब करने पर ही राशन मिलेगा। कंट्रोल दुकान का सारा कामकाज ऑनलाइन हो जाएगा। सेल्समैन ने उपभोक्ता को कितना राशन दिया, राशन का कितना रुपया वसूला, कितना तौल किया, बिल आदि की जानकारी अफसर कम्प्यूटर पर हर दिन देख सकेंगे। 

कालाबाजारी पर अंकुश लगेगा
उपभोक्ताओं को राशन का बिल मिलेगा। सही तौल पर राशन मिलेगा। दो माह का राशन एक साथ मिल सकेगा। उपभोक्ताओं के राशन की कालाबाजारी भी नहीं हो सकेगी। सेल्समैन पर भी लगाम लग जाएगी। जानकारी के अनुसार चार माह बाद कैरोसिन की सब्सिडी भी उपभोक्ताओं के खाते में सीधे आने की उम्मीद जताई जा रही है। 

फरवरी माह से उपभोक्ताओं को राशन अंगूठा लगाकर दिया जाएगा। इसके लिए विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। अधिकारी भोपाल जाकर प्रशिक्षण भी ले लिए है। आदेश मिलते ही जिले में वितरण प्रणाली का लागू कर दिया जाएगा।  
- नागेन्द्र सिंह, सहायक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी
Ajay Khare
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned