इस शहर में स्मार्टफोन बांट रहे डाक व मनीऑर्डर, जानिए कैसे

जिले में पोस्टमैन मोबाइल एप योजना शुरू, डाक विभाग ने प्रधान डाकघर से जुड़े सभी डाकियों को किया स्मार्टफोस से लैस, शहर की २० बीटों में शुरु हुई एप योजन

By: balmeek pandey

Published: 18 Aug 2017, 11:33 AM IST

कटनी. समय के साथ ही अब डाक विभाग भी आधुनिक हो गया है। अब डाकियों के साथ डाक वितरक को भी पोस्टमैन मोबाइल एप से हाईटेक कर दिया गया है। डाक विभाग ने मुख्य डाकघर से जुड़े सभी डाकियों को स्मार्टफोन से लैस कर दिया गया है। इसके तहत अब शहर समेत उपनगरीय क्षेत्र के २० बीटों के डाकिए लोगों से डाक डिलेवरी की रिसीविंग पेपर पर नहीं, बल्कि मोबाइल एप के जरिए डिजिटल सिग्नेचर से ले रहे हैं। इसके लिए सभी डाकियों को जीपीएस सिस्टम से भी कनेक्ट किया गया है, ताकि डाक की समय पर डिलेवरी हो सके। इस योजना से जहां लोगों को अब समय पर डाक मिल रही है तो वहीं डिजिटल इंडिया के तहत डाक विभाग भी पेपरलेस हो गया है।

ऐसे चलती है डाक
मार्च महीने से शुरु पोस्टमैन मोबाइल एप के तहत डाक की ऑनलाइन फीडिंग मुख्य डाकघर में होती है। रिसीविंग और शॉर्टिंग के बाद एरिया वाइज डाक फीड होती है। इसके बाद पोस्टमैन को डाक वितरण के लिए रवाना किया जाता है। इससे रियल टाइम डिलेवरी की सूचना विभाग को मिल रही है। पोस्टमैन अब डाक स्मार्टफोन लेकर डाक बांटने जाते हैं। इस स्मार्टफोन में जीपीएस सिस्टम चालू है। इससे पंजीकृत डाक वितरण मोबाइल एप पर ई-डिलेवरी फार्म पर उपभोक्ता का साइन लेता है और उसी समय डाक से आने वाली वस्तु को ट्रैक करने के लिए विभागीय वेबसाइट पर इसे अपडेट कर देता है।

इन डाको में मोबाइल एप का प्रयोग
- रजिस्ट्री
- स्पीड पोस्ट
- मॅनी ऑर्डर
- पॉर्सल
- बीपी
- इलेक्ट्रिक मनीऑर्डर
- रजिस्ट्री पोस्ट
- पार्सल सीओडी

ये है फायदा
- रियल टाइम डाक डिलेवरी
- उपभोक्ताओं को डाक ट्रैक करने में आसानी
- डाकिये की समय बचत
- रियल टाइम रिपोर्टिंग
- पोस्ट मैन की लोकेशन ट्रैस
- डाक की लोकेशन
- डिजिटल मॉनीटरिंग
- रियल टाइम डाटा अपग्रेडेशन
- डाक विभाग पर लोगों की रुचि

शिकायतों की झंझट से मुक्ति
डाक-पार्सल देरी से पहुंचने और न मिलने के कारण कई बार लोगों को डाक सुविधा पर संदेह होता था। उन्हें ये लगता था कि पता नहीं डाक विभाग ने पार्सल भेजा होगा कि नहीं। लेकिन उक्त सुविधा के बाद लोगों की इस समस्या का समाधान हो रहा है और शिकायतें दूर हो रही हैं।

इनका कहना है
कटनी जिले में मार्च से पोस्टमैन मोबाइल एप योजना संचालित है। इस योजना से लोगों को रियल टाइम डाक मिल रही है। विभाग के डिजटली होने के साथ ही पोस्टमैनों की हीलाहवाली पर लगाम लगी है।
डॉ. आजिंक्य काले, अधीक्षक, जबलपुर संभाग।

Postal Department
Postal Department IMAGE CREDIT: Pankaj Sahu
balmeek pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned