यहां सूखे कंठों की प्यास बुझाने नहीं नगर निगम को चिंता...

शहर के मुख्य बाजारों, चौराहों में नहीं पानी की व्यवस्था, होटलों, बोतल बंद पानी का लोग ले रहे सहारा

By: mukesh tiwari

Published: 14 Apr 2018, 12:29 PM IST

कटनी. मार्च माह के अंतिम सप्ताह से अचानक से बढ़े पारे ने जहां लोगों की परेशानी बढ़ा दी है तो शहर के मुख्य बाजारों, चौराहों में प्यासे कंठों को तर करने पानी की भी सुविधा उपलब्ध नहीं है। नगर निगम की ओर से अभी प्याऊ नहीं खोले गए हैं तो समाजसेवी संगठनों की ओर से होने वाली व्यवस्था भी शुरू नहीं हो सकी है। हर वर्ष मई जून माह में शहर में प्याऊ निगम द्वारा खोले जाते थे लेकिन इस वर्ष अप्रैल से ही तीखी गर्मी शुरू हो गई है। शहर में स्थानीय सहित आसपास के सैकड़ों गांवों से लोग रोजाना खरीदी करने आते हैं और उनके लिए पीने के पानी का कोई साधन बाजारों में उपलब्ध नहीं है। जिसके चलते लोग होटलों व पाउच, बोतल बंद पानी खरीदने को मजबूर हैं।
निगम के बाहर ही व्यवस्था
शहर के मुख्य मार्ग में मिशन चौक से लेकर स्टेशन चौराहा तक मात्र एक स्थान पर ही प्याऊ की व्यवस्था है। नगर निगम के गेट पर लगे वॉटर कूलर से ही लोगों की प्यास बुझ रही है। शेष स्थानों पर प्याऊ के माध्यम से ही गर्मी में लोगों को सुविधा मिलती थी लेकिन इस बार गर्मी की स्थिति को देखने के बाद अभी तक निगम या अन्य माध्यमों से व्यवस्था शुरू नहीं हो सकी है। इसके अलावा कचहरी चौक में एक स्थान पर प्याऊ की व्यवस्था कराई गई है। उसके अलावा शहर के अन्य स्थानों पर लोगों को पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है।
दो डिग्री नीचे आया पारा, उमस बढ़ी
पिछले चार दिन से जिले में बादलों का डेरा है तो रोजाना बारिश हो रही है। इसके चलते किसानोंं की खेत में कटी रखी फसलें खराब हो रही हैं। वहीं बारिश के बाद निकलने वाली धूप से बढ़ी उमस ने भी लोगोंं को परेशान कर रखा है। मजबूरी में बाहर निकलने वाले लोग जहां टोपी, गमछे व चश्मे के सहारे निकल रहे हैं तो वहीं गर्मी से सूखे कंठों को तर करने के लिए शीतल पेय पदार्थों का सहारा ले रहे हैं।

mukesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned