इस शहर में फिर बने नोटबंदी जैसे हालात, आरबीआई से 100 करोड़ की डिमांड

shivpratap singh

Publish: Apr, 17 2018 11:47:51 AM (IST)

Katni, Madhya Pradesh, India
इस शहर में फिर बने नोटबंदी जैसे हालात, आरबीआई से 100 करोड़ की डिमांड

एसबीआई चेस्ट ब्रांच ने कैश की किल्ल्त के चलते की मांग, रुपए न होने की वजह से बंद करने पड़ रहे एटीएम

कटनी. शहर में एक बार फिर नोटबंदी के जैसे हालात बनते नजर आ रहे हैं। भारतीय रिजर्व बैंक से कैश जारी न होने के कारण बैंकों में कैश की किल्लत खड़ी हो गई है। जिले में १०० करोड़ रुपए से अधिक की राशि की आवश्यकता होना सामने आया है। एसबीआई ने १०० करोड़ रुपए की डिमांड आरबीआई से की है। बताया जा रहा है कि आरबीआई से पिछले दो माह से कैश की डिमांड पूरी न होने के कारण अब बैंकों में हालात बिगड़ गए हैं। पिछले एक सप्ताह से एटीएम में कैश की कमी के कारण लोग परेशान हैं। शादियों के इस सीजन व दो दिन बाद अक्षय तृतीया का अबूझ मूहूर्त होने के कारण शहर में सैकड़ों की संख्या में विवाह होने है। तैयारियों में जुटे लोग रुपए न होने से परेशान हैं। शहर में स्टेशन चौराहा, विश्वकर्मा पार्क, सुभाष चौक, खिरहनी फाटक के आसपास स्थित एटीएम खाली नजर आए। कुछ एटीएम में कैश मिला तो दर्जनों की संख्या में लोग कतार लगाए तेज धूप में खड़े रहे।
एटीएम में ताला कहीं नो-कैश का बोर्ड
कई बैंकों ने अपने एटीएम में ताले डाल दिए हैं तो कई ने नो-कैश का बोर्ड लगाया। आलम यह है कि एसबीआई चेस्ट ब्रांच कचहरी चौराहा में भी कैश न होने के कारण एटीएम को दोपहर तक बंद रखा गया। बैंक के अंदर से काउंटर से ही कैश उपलब्ध करवाया गया।
यह हो रही समस्या
- दो माह से आरबीआई को भेजी जा रही डिमांड, फिर भी नहीं आ रहा कैश।
- शादियों के सीजन में बाजार में मायूसी छाई है। दुकानदार भी सकते में हैं।
- शादी-विवाह सहित अन्य आयोजनों के लिए बैंक रुपए निकालने पहुंच रहे लोगों को भी कैश कम दिया जा रहा है।
- एसबीआई चैस्ट ब्रांच में ही कैश न होने के कारण अन्य बैंकों में भी है किल्लत।
इनका कहना
आरबीआई को १०० करोड़ रुपए कैश की डिमांड भेजी गई है। कैश न मिलने के कारण अब समस्या हो रही है। बैंक में अन्य शाखाओं से कैश का इंतजाम कर उपभोक्ताओं को रुपए उपलब्ध करवाए जा रहे हैं।
संजय श्रीवास्तव, शाखा प्रबंधक, एसबीआई कचहरी चौक

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned