कटनी से बिलासपुर के बीच एक भी स्पेशल ट्रेन नहीं, निजी वाहनों में लुटने मजबूर यात्री

- देशभर में चलाई जा रही 115 स्पेशल ट्रेन में कटनी से बिलासपुर लाइन की अनदेखी ने बढ़ाई यात्रियों की मुसीबत.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 02 Jul 2020, 11:37 AM IST

कटनी. कोरोना संकट में रेलवे द्वारा नागरिकों की आवागमन संबंधी जरूरतें पूरी करने के चलाई जा रही 15 जोड़ी राजधानी और सौ जोड़ी श्रमिक स्पेशल ट्रेन में एक भी ट्रेन कटनी से बिलासपुर के बीच नहीं है। इसका खामियाजा उन यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है जो स्पेशल ट्रेन से कटनी तो पहुंच जाते हैं, लेकिन कटनी जंक्शन से बिलासपुर, अंबिकापुर की ओर जाने के लिए ट्रेनें नहीं मिलती। इन यात्रियों को मजबूरी में मनमाना किराया देकर घर जाना पड़ रहा है।
खासबात यह है कि कटनी से बिलासपुर के बीच चार जिला मुख्यालय हैं। इनमें मध्यप्रदेश का उमरिया, शहडोल और अनूपपुर और छत्तीसगढ़ का पेंड्रारोड रेलवे स्टेशन शामिल है। इसके अलावा अनूपपुर जंक्शन से अंबिकापुर तक यात्रा करने वाले यात्री भी कटनी से ट्रेन बदलते हैं। यात्रियों का कहना है कि कटनी से बिलासपुर के बीच एक भी स्पेशल ट्रेन का नहीं होना रेलवे की परिचालन प्रबंधन पर सवाल खड़े करता है।
पश्चिम मध्य रेलवे जबलपुर जोन के सीपीआरओ प्रियंका दीक्षित बताती हैं कि कोविड-19 के कारण ट्रेनों के परिचालन का निर्णय बोर्ड ही करता है। हम प्रस्ताव भेज सकते हैं। हमारे लिए तो रीवा से भी एक ट्रेन जरूरी है। देखते हैं आगे क्या निर्णय हो रहा है। फिलहाल कटनी से बिलासपुर के बीच स्पेशल ट्रेन चलने की जानकारी नहीं है।

एक भी ट्रेन नहीं होने से ये परेशानी
- कटनी स्टेशन में उतरने के बाद यात्री घर पहुंचने के लिए निजी वाहनों को हजारों रूपये देने विवश।
- कम पैसे में कई बार ऑटो से सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा करने हो रहे मजबूर। चार दिन पहले एक यात्री ने कटनी से अंबिकापुर जाने के लिए ऑटो का सहारा लिया।
- यात्रियों ने बताया रेलवे को कम से कम एक ट्रेन कटनी से बिलासपुर लाइन पर चलानी चाहिए, जिससे यात्रियों को सहूलियत मिल सके।

 

Passengers booking tickets at the reservation counter.
रिजर्वेशन काउंटर में टिकट बुक करवाते यात्री. IMAGE CREDIT: Raghavendra

जबलपुर से वीआइपी कोटा चालू, कोटा के बराबर वेटिंग का प्रावधान

एक जुलाई से रेल सफर को लेकर रेलवे ने कई नए प्रावधान भी किए हैं। इसमें जबलपुर जोन से वीआइपी कोटा चालू करने का प्रावधान शामिल है। रेलवे सूत्रों के अनुसार जोन से जिस भी स्पेशल ट्रेन जितनी सीट का वीआइपी कोटा होगा उतनी सीट की वेटिंग टिकट मिलेगी। बतादें कि कटनी से बिलासपुर लाइन को छोड़कर अलग-अलग दिशाओं में लंबी व कम दूरी की मिलाकर 15 से ज्यादा ट्रेनें हैं।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned