एक डॉक्टर के भरोसे दो सौ मरीजों की ओपीडी, वो भी रीठी अटैच

ग्रामीण अंचल में पटरी से उतरी स्वास्थ्य सेवाएं, इमरजेंसी में बढ़ जाती है मरीजों की परेशानी.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 21 Aug 2021, 11:23 AM IST

कटनी. बहोरीबंद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रतिदिन दो सौ से ज्यादा मरीज ओपीडी में परीक्षण के लिए आते हैं। इन मरीजों के परीक्षण के लिए यहां एक ही डॉक्टर गौरव अवस्थी सेवाएं दे रहे हैं। खासबात यह है कि उन्हे भी रीठी अस्पताल के लिए अटैच कर दिया गया है। जाहिर एक डॉक्टर यहां इतने मरीजों का परीक्षण करने के बाद रीठी अस्पताल में सेवाएं देंगे तो इसका सीधा नुकसान इलाज में मरीजों को होगा।

बहोरीबंद विकासखंड के बीएमओ जो बाकल स्वास्थ्य केंद्र में सेवाएं दे रहे हैं, उनका कहना है कि बहोरीबंद अस्पताल में पद की तुलना में चिकित्सकों की कमीं है। इन दिनों मौसमी बीमारी के मरीजों की संख्या बढ़ गई है।

ऐसे समझें मरीजों की परेशानी
- स्त्री रोग, दंत रोग सहित अन्य विभाग के पांच चिकित्सकों के पद के विरुद्ध महज एक डॉक्टर की पदस्थपना।
- वार्ड ब्वाय, ड्रेसर की नियुक्ति नहीं होने के कारण सीधा नुकसान इमरजेंसी में आमजनों को उठाना पड़ रहा है। प्रतिदिन दो से तीन एक्सीडेंट के मामले आते हैं।
- एक्स-रे टेक्सीनिशियन की नियुक्ति तो विभाग ने कर दी, लेकिन उनका पूरा समय अवकाश में जा रहा है। पहले मेटरनिटी लीव लीं और अब चाइल्ड केयर लीव पर जाने की तैयारी है। 6 महीने से इमरजेंसी में एक्सरे का लाभ नहीं मिल रहा है।
- दंत चिकित्सक की उपलब्धता नहीं होने के कारण छोटी-छोटी परेशानी पर लोगों को कटनी व जबलपुर की दौड़ लगानी पड़ रही है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned