PM मोदी के स्वच्छता अभियान को पलीता, खुले में शौच जारी, चारों तरफ गंदगी से संक्रमण की आशंका

-ग्राम पंचायत बाकल में मनमानी करने वालों के खिलाफ पंचायत नहीं कर रही कार्रवाई
-ग्रामीणों का रास्ता चलना दूभर, अभियान को लग रहा पलीता

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 23 Aug 2020, 10:06 AM IST

बाकल. जिला प्रशासन की मानें तो जिला दो साल पहले ही ओडीएफ (खुले में शौच से मुक्त) हो चुका है। लेकिन इसकी हकीकत कुछ और ही है। हालत यह है कि अभी भी शहर से लेकर गांव तक में रोजाना हजारों लोग खुले में शौच कर रहे हैं। यह हाल तब भी बदस्तूर जारी है, जब बाकल क्या पूरी दुनिया कोरोना वायरस के संक्रमण से बेहाल है। खुले में शौच से संक्रमण फैलने का खतरा भी है लेकिन इस तरफ न प्रशासन कोई ध्यान दे रहा है न ही नागरिक इस बात को समझ पा रहे हैं। ग्राम पंचायत के अधिकारी और जनप्रतिनिधि भी चैन की नींद सो रहे हैं।

बहोरीबंद क्षेत्र के ग्राम पंचायत बाकल में गांव के चारों ओर सड़कों पर गंदगी का अंबार लगा। स्वच्छता का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जा रहा। पठार क्षेत्र की बड़ी ग्राम पंचायत होने के बाद भी ग्राम पंचायत बाकल में स्वच्छता को लेकर गंभीरता नहीं बरती जा रही। गांव के चारों ओर सैकड़ों की तादाद में लोग खुले में शौच कर रहे हैं। इससे राहगीरों को भी परेशान होती है। ग्राम पंचायत द्वारा स्वच्छता को लेकर लोगों को जागरुक करने और उन्हें खुले में शौच न करने के लिए नहीं रोका जा रहा है। खुले में शौच करने से अनेक गंभीर बीमारियों का खतरा बना रहता है। इसके बाद भी गांव के चारों ओर सड़कों में लोग खुले में शौच कर रहे हैं।

कचरे का भी लगा ढेर
ऐसा नहीं कि गांव के लोग सिर्फ खुले में शौच को जा रहे हैं, बल्कि जगह-जगह गंदगी का अंबार भी लगा हुआ है। इसको लेकर भी पंचायत गंभीर नहीं हैं। लोग भी समझदारी नहीं दिखा रहे। हैरानी की बात तो यह है कि लोगों के घरों में प्रसाधन (शौचालय) बने हुए हैं, बावजूद इसके लोग उसका उपयोग नहीं कर रहे। ऐसे में बारिश के मौसम में गंदगी से फैलने वाले रोगों के संक्रमण का खतरा बना हुआ है।

"ग्राम पंचायत बाकल, पठार क्षेत्र की बड़ी ग्राम पंचायत है लेकिन पंचायत के सचिव एवं सरपंच अपनी मनमानी पर उतारू हैं। ग्राम पंचायत साफ सफाई और लोगों को खुले में शौच को लेकर गंभीर नहीं है। मैंने कई बार इन मुद्दों को ग्राम सभाओं में उठाया है लेकिन ध्यान नहीं दिया जा रहा।"-संजीव राय, पंच ग्राम पंचायत बाकल।

"ग्राम पंचायत बाकल में चारों ओर गंदगी है, साफ-सफाई कभी कभार ही सिर्फ नाम के लिए होती है। पर्यूषण पर्व और गणेश उत्सव शुरू हो गया है। ग्राम पंचायत के उदासीन रवैये के कारण चारों ओर गंदगी फैली हुई है।"-मुकेश कुमार जैन, पंच ग्राम पंचायत बाकल।

"गांव में साफ-सफाई बजट अनुसार करा रहे हैं। लोगों के घरों में प्रसाधन बने हैं, इसके बाद भी खुले में शौच कर रहे हैं। ऐसे लोगों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। जुर्माना लगाने और न मानने वालों के राशन रोकने की कार्रवाई करेंगे।"-सुशील पटेल, सचिव ग्राम पंचायत बाकल।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned