सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने प्रशासन ने खाली प्लॉट में लगवाई सब्जी दुकानें, निर्वतमान महापौर ने कहा न जाएं व्यापारी

-कुठला सब्जी मंडी में सब्जी व्यापारियों, ग्राहकों की लग रहीं थी भीड़, आ रहे एक दूसरे के संपर्क में, सोशल डिस्टेंसिंग का भी नहीं हो रहा पालन, कोरोना संक्रमण से बचाने प्रशासन ने कराया था इंतजाम

गुरुवार को एक सब्जी खरीदने और बेचने पहुंचे लोग छूते रहे एक दूसरे को, बना रहा कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा

 

By: dharmendra pandey

Updated: 03 Apr 2020, 09:43 AM IST

कटनी. कुठला पुरैनी सब्जी मंडी में लगने वाली भीड़ को कम करने बुधवार को जिला प्रशासन ने बगल के खाली पड़े जिस प्लॉट में दुकान लगाने की व्यवस्था की। जरूरी इंतजाम कराया, वहां पर गुरुवार को दुकानें नहीं लगी। प्रशासन के लौटने के बाद मंडी पहुंचे निर्वतमान महापौर ने पुरानी जगह पर ही व्यापारियों को दुकानें लगाने को कहा। इनके कहते ही व्यापारी गुरुवार सुबह प्लॉट पर नहीं गए। प्रशासन के अधिकारी पहुंचे तो कह दिया कि निर्वतमान महापौर से बात हो गई है। प्रशासन की कवायद और निर्वतमान महापौर की बातों ेंके बाद मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हुआ। भीड़ में लोग एक दूसरे को छूते रहे। इस बीच कोरोना संक्रमण का खतरा भी बना रहा। बतादें कि कुठला पुरैनी स्थिति सब्जी मंडी में ग्राहकों और व्यापारियों की भीड़ लग रही थी। बुधवार को तहसीलदार मुनौव्वर खान, नायब तहसीलदार रविंद्र पटेल सहित प्रशासन का अमला मौके पर पहुंचा और मंडी के बगल में खाली पड़े प्लाट पर हरी सब्जियों को लेकर आने वाले व्यापारियों की व्यवस्था बनाई। जिसका अड़ातियों और कुछ सब्जी व्यापारियों ने विरोध किया। निर्वतमान महापौर शशांक श्रीवास्तव को सूचना दी थी


अवैध रूप से चल रही सब्जी मंडी, प्रशासन शिफ्ट नहीं करा रहा कृषि उपज मंडी में
वर्तमान समय में जिस जगह पर मंडी लग रही है वह अवैध है। राजस्व विभाग की अफसरों की मानें तो हाईकोर्ट ने इस मंडी को कृषि उपज मंडी पुरैनी में शिफ्ट करने के आदेश भी दिए है, लेकिन राजनीतिक दबाव के चलते प्रशासन इसे अब तक शिफ्ट नहीं करा पाया। सब्जी मंडी को यदि कृषि उपज मंडी में शिफ्ट करा दिया जाता है तो वहां पर जगह भी पर्याप्त है। दुकानें भी बनी है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी हो जाएगा।


-कुठला सब्जी मंडी में भीड़ कम करने व्यवस्था बनाई गई थी। उन्हें बगल में खाली पड़े प्लाट पर जगह दी गई थी, लेकिन व्यापारियों ने वहां पर दुकान नहीं लगाई। नई व्यवस्था बनाई जा रही है।
बलवीर रमण, एसडीएम।


-संक्रमण से बचाने के लिए प्रशासन जो व्यवस्था बना रहा है, उसमें सभी को सहयोग करना चाहिए। साथ ही इस महामारी से निपटने के लिए प्रशासन को भी राजनेताओं, व्यापारियों के साथ बैठकर उनसे भी मशविरा करना चाहिए, लेकिन जिला प्रशासन ने इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया। महामारी की इस घड़ी में हम सबकों मिलकर लडऩा है।
मिथिलेश जैन, शहर कांग्रेस अध्यक्ष।

-मैंनें ऐसा नहीं कहा था। यह गलत बात है। मैंने कहा था कि दूर-दूर व्यवस्था बनाओ। साफ-सफाई कराओ। सेल मंडी वाले एक रस्सी लगाए। 20-20 आदमी जाकर सौदे करें, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। हमारे पास यह समस्या लेकर आए थे कि एक दिन में 10-10 दुकानें खुलेंगी तो मैंनें कहा था कि ऐसा नहीं होगा। कुछ व्यापारियों ने मेरे शब्द का गलत अर्थ निकाला गया है।
शशांक श्रीवास्तव, निवर्तमान महापौर।

dharmendra pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned