11 माह से बंद पैसेंजर ट्रेन, यात्रियों ने कहा रेलवे को जनसुविधाओं से ज्यादा फायदे की चिंता

सड़क हादसे में लगातार बढ़ोतरी के बाद लोगों ने कहा ट्रेन से सफर सुरक्षित, लेकिन रेलवे चलाए तो बने बात.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 26 Feb 2021, 10:34 AM IST

कटनी. 11 माह से पैंसेजर ट्रेनें बंद होने के बाद कटनी-बीना रेलखंड में ग्रामीणों की परेशानी बढ़ गई है। छोटे कारोबारी और विद्याथियों के साथ सब्जी व अन्य घरेलू उत्पाद लेकर कस्बा व जिला मुख्यालय तक आकर व्यापार करने वाले ग्रामीणों का कहना है कि रेलवे को जन सुविधाओं से ज्यादा अपने फायदे की चिंता है।

पैंसेजर ट्रेनें बंद होने के कारण आए दिन मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि सीधी बस हादसे के बाद लोग अब एक बार फिर से सुरक्षित सफर के लिए ट्रेन चलाए जाने की मांग कर रहे हैं। आनंद अग्रवाल, जीतेंद्र अग्रवाल, ओमनारायण राय, वीरेंद्र, रामेश्वर, नरेंद्र राय, मुकेश पटेल, रीतेश गुप्ता, राशू कंदेले, प्रमोद कुमार, कमलेश सहित अन्य यात्रियों की मांग है कि कटनी-बीना रूट पर पैंसेंजर ट्रेनें चलाई जाए।

यह भी जानें
- पश्चिम मध्य रेलवे जोन जबलपुर के महाप्रबंधक को ज्ञापन सौंपे जाने के बाद भी पैसेंजर ट्रेनें चलाने को लेकर तैयारी नहीं दिख रही है।
- रीठी, बकलेहटा, सलैया के ग्रामीण कोरोना संक्रमण काल में भी लगातार मांग करते रहे हैं कि पैसेंजर ट्रेनें चलाई जाए।
- कॉलेज, हायर सेकेंडरी और हाइस्कूल की कक्षाएं चालू होने के साथ ही पैसेजर ट्रेनों की डिमांड बढ़ गई है। इलाज के लिए जिला मुख्यालय जाने वाले महिलाएं व बुजुर्ग भी पैसेंजर ट्रेन चलाने की मांग कर रहे हैं।

यह है मांग
- बिलासपुर-भोपाल पैसेंजर ट्रेन जल्द चलाई जाए। रेलवे ने मेमू ट्रेन चलाने की तैयारी की है तो इस टाइमिंग में कटनी-भोपाल या बीना मेमू ट्रेन चलाई जाए।
- कोटा-जबलपुर एक्सप्रेस ट्रेन को नैनपुर से आगे गोंदिया तक बढ़ाया जाए। जिससे यात्रियों को सुविधा हो।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned