scriptPeople upset for NOC in electricity department | अफसर गायब: 'जननायक' बनने की होड़ में कतार में धक्का खा रहे भावी 'उम्मीदवार' | Patrika News

अफसर गायब: 'जननायक' बनने की होड़ में कतार में धक्का खा रहे भावी 'उम्मीदवार'

गणेश चौक स्थित विद्युत कार्यालय में जेई के होने से परेशान हुए एनओसी लेने पहुंचे लोग, कलेक्टर से शिकायत के बाद हल हुई समस्या
लगभग तीन घंटे तक हुए परेशान, देररात तक जारी रहा एनओसी देने का काम

कटनी

Published: December 18, 2021 09:28:47 pm

कटनी. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का बिगुल बज चुका है। राजनीति के इस समय पर जिला पंचायत अध्यक्ष, सदस्य, जनपद अध्यक्ष, सदस्य, सरपंच और पंच बनने के लिए एक बार फिर लोगों में होड़ मच गई है। जननायक का ख्वाब देखने वाले भावी उम्मीदवार नामांकन प्रक्रिया के लिए कतारों में धक्का खाने को मजबूर हैं। विकास और सिस्टम को ठीक करने की मंशा को लेकर चुनावी समर के लिए कमर कसने वाले भावी अभ्यर्थी व नेता परेशानी भी उठा रहे हैं।
चुनाव लडऩे के लिए भरे जाने वाला नामांकन में विद्युत विभाग से एनओसी लेना अनिवार्य है, लेकिन गणेश चौक स्थित कार्यालय में अव्यवस्था के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सुबह जल्दी अपनी बारी आ जाने और जल्दी एनओसी बन जाने की आस में लोग सुबह नौ बजे से कार्यालय पहुंच जा रहे हैं, लेकिन अधिकारियों की गैर मौजूदगी बड़ी समस्या बनी हुई है।

'जननायक' बनने की होड़ में कतार में धक्का खा रहे भावी 'उम्मीदवार'
'जननायक' बनने की होड़ में कतार में धक्का खा रहे भावी 'उम्मीदवार'

एक बजे पहुंचे जेई
जेई सुमित सिन्हा द्वारा एनओसी बनाए जाने का काम संभाल रहे हैं। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को किसी बैठक में शामिल होने के कारण वे सीट पर नहीं रहे। दोपहर लगभग एक बजे पहुंचे तो एनओसी की प्रक्रिया शुरू हुई। वहीं लगभग आधा घंटा से ज्यादा समय भीड़ को नियंत्रित करने में लोगों को लगा। सुबह 10 बजे से अभ्यर्थी इंतजार करते रहे। 1 बजे के बाद पहुंचे जेई ने प्रक्रिया अपनाई।

शिकायत के बाद बनी बात
विजय कुमार दुबे ने बताया कि लगातार लोग समस्या बता रहे थे, लेकिन विद्युत विभाग के अधिकारी सुनवाई नहीं कर रहे थे। इस संबंध में शहर अभियंता सहित अधीक्षण यंत्री, कलेक्टर तक को शिकायत की गई। लोगों ने कहा कि 20 दिसंबर नामांकन की अंतिम तारीख है और एनओसी बनाने के लिए कार्यालय में कोई नहीं है। दोपहर 1 बजे तक जेई सीट पर नहीं थे जिसके कारण लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। शिकायत के बाद समस्या का समाधान हुआ। लोगों ने कहा कि कोविड फिर से फैल रहा है, लेकिन यहां पर नियमों को ताक में रखकर भीड़ लग रही है, जिसे देखने वाला कोई नहीं है।


इसलिए भी हो रही समस्या
बताया जा रहा है कि कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनका घरेलू, व्यवसायिक, कृषि सभी प्रकार के बिल बकाया है। घरेलू बिल जमा कर ही एनओसी चाह रहे, लेकिन सकल बिल भुगतान के बाद भी एनओसी जारी हो रही है। कुछ लोग ऐसे भी थे जिनके बिल जमा नहीं थे, उसके बाद भी एनओसी मांग रहे थे। बिल गड़बड़ बता कह रहे हैं कि हम कई माह से सुधार के लिए चक्कर काट रहे हैं, लेकिन सुधान नहीं हुआ। बता दें कि 14 दिसम्बर से एनओसी देने का काम चल रहा है। शुक्रवार देररात तक एनओसी देने का काम चलता रहा।

एनओसी लेने लोगों ने बताई समस्या
सुबह 10 बजे से जेई का इंतजार करते रहे। दो बजे के बाद एनओसी के लिए प्रक्रिया शुरू हुई। ऐसे समय में अलग-अलग काउंटर की व्यवस्था होनी चाहिए, लेकिन विभाग ध्यान नहीं दे रहा और सैकड़ों लोग परेशान होते रहे।
शिवचरण तिवारी, घटखिरवा।

एनओसी बनवाने के लिए आए थे। सुबह 10 बजे से लाइन में लगे थे। दोपहर एक बजे जेई पहुंचे है। यहां पर बड़ी संख्या में भीड़ है, जिससे संक्रमण का खतरा तो रहा ही, साथ ही कई घंटे परेशानी हुई।
धर्मेद्र कुमार पटेल, जठवारा।

सुबह 11 बजे से दो बजे तक एनओसी के लिए इंतजार करते रहे। दो बजे तक एनओसी
नहीं मिली। विभाग को चाहिए कि कोविड का संक्रमण बढ़ रहा है, सुरक्षा की दृष्टि से अलग-अलग काउंटर बनाकर समय पर काम कराया जाए।
राकेश कुमार नायक, भरवारा।

सरपंची का चुनाव लड़ाना है। 20 दिसंबर अंतिम तारीख है, ऐसे में नामांकन भरने में लेट लतीफी होगी और विभाग की इस अव्यवस्था के चलते कई लोग नामांकन नहीं भर पाएंगे। एक दिन बाद भी समय पर एनओसी नहीं मिल पा रही।
संदीप कुमार यादव, पौंसरा।

इनका कहना है
बैठक के कारण जेई एनओसी काउंटर में दोपहर में नहीं बैठ पाए थे। साढ़े 12 के बाद एनओसी देने का काम शुरू हो गया था, जो देर रात तक चला। कुछ लोग ऐसे थे जिनके बिल बकाया हैं, इसके बाद भी एनओसी के लिए दबाव बना रहे थे और बेवजह शिकायत कर रहे थे।
सुभाष नागेश्वर, शहर डीई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.