ट्रक की जांच की तो सामने आया ये सच...

वाहन में भरे थे 38 मवेशी, चार तस्कर गिरफ्तार, मुखबिर की सूचना पर रीठी पुलिस ने देवरीफाटक के समीप की कार्रवाई, वाहन मालिक पर भी हुई कार्रवाई

By: balmeek pandey

Published: 09 Dec 2017, 09:53 PM IST

कटनी. मुखबिर की सूचना पर रीठी पुलिस ने 38 नग गौवंश को मुक्त कराया है। पुलिस ने चारो आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए अंडर सेक्शन पशु क्रूरता 11(1) घ, 66/192 के तहत निर्दयतापूर्वक गौवंश का परिवहन करने पर प्रकरण दर्ज किया है। इसके साथ ही परमिट शर्तों का उल्लंघन करते पाए जाने पर वाहन मालिक के खिलाफ भी प्रकरण दर्ज कर 66/192 के तहत मुल्जिम बनाया गया है।
रीठी थाना प्रभारी रमन सिंह मरकाम ने बताया कि शुक्रवार की सुबह मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि एक ट्रक में निर्दयतापूर्वक मवेशी ले जाए जा रहे हैं। सूचना पर तत्काल टीम के साथ थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे। देवरी फाटक गांव के पास ट्रक क्रमांक यूपी 21 एएन 7635 में ट्रक खड़ा मिला और उसमें 38 नग मवेशी भरे हुए थे। पुलिस को देखते ही आरोपी भागने का प्रयास करने लगे। जिस पर पुलिस ने घेराबंदी कर गिरफ्तार किया। पुलिस से पूछताछ में बताया कि आरोपियों ने बताया कि जबलपुर से मुरादाबाद गौवंश लेकर जा रहे थे। इस कार्रवाई में टीआई रमन सिंह मरकाम, एसआई एनपी पटेल, हेड कांस्टेबल जयचंद, कबीर, आरक्षक संदेश, सुरेंद्र, लखन पटेल की भूमिका रही।

ये तस्कर हुए गिरफ्तार
- मोहसिन मुसलमान 35, निवासी डिंगरपुर मुरादाबाद उप्र।
- मो. कासिम 25, निवासी मझौली जिला मुरादाबाद उप्र।
- अलाउद्दीन कुरैशी 35 वर्ष, रजा चौक जबलपुर।
- जमीर मुसलमान 50 निवासी ग्राम संडीर हरियाणा।

--------------------------------------------
वृंदावन से मिली अपहरण कर ले जाई गई किशोरी
कटनी. माधवनगर थाना क्षेत्र में अपहरण कर एक 14 वर्षीय किशोरी को आरोपी द्वारा उत्तरप्रदेश वृंदावन ले जाया गया था। यहां आरोपी किशोरी को लेकर एक मकान में पहुंचा और किराये से रहने की बात की। आरोपी मांग पर मकान मालिक ने किराये से कमरा देते हुए पुलिस को सूचना दी। वृंदावन से मिली सूचना पर माधवनगर पुलिस की एक टीम वहां रवाना की गई। पुलिस ने मौके से अपहरण कर ले जाई गई किशोरी का दस्तयाब करते हुए आरोपी रंजीत पटेल उम्र 20 निवासी कुलुआ बरखेड़ा को गिरफ्तार किया। माधवनगर थाना प्रभारी मंजीत सिंह ने बताया कि किशोरी का अपहरण 5 दिसंबर को आरोपी द्वारा किया गया था। पीडि़त परिजनों की शिकायत पर अपराध पंजीबद्ध किया गया था।

balmeek pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned