पुलिस बल नहीं मिलने से रुकी कार्रवाई

सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने का मामला, एसपी बोले हमें देना थी जानकारी

By: narendra shrivastava

Published: 06 Mar 2021, 05:58 PM IST

कटनी। सरकारी जमीन पर अतिक्रमण से लेकर मनमाने निर्माण पर कार्रवाई को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 8 फरवरी को कलेक्टर-कमिश्नर कांफ्रेंस में निर्देश दिए जाने के बाद भी शहर में ऐसे मामलों पर कार्रवाई के नाम पर औपचारिकता निभाने के मामले सामने आ रहे हैं। ताजा मामला जयप्रकाश वार्ड में कार्रवाई से जुड़ा है। नगर निगम को 4 मार्च को धर्मेंद्र माखीजानी, अनिल वाधवानी, दरयामल पंजाबी, अजीत साहू, मीरा देवी बजाज, अशोक बजाज सहित अन्य लोगों द्वारा आवासीय अनुज्ञा प्राप्त कर व्यावसायिक निर्माण मामले में कार्रवाई करनी थी। जानकर ताज्जुब होगा गुरुवार को पूरे दिन और शुक्रवार को भी इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई। अब नगर निगम आयुक्त सत्येंद्र धाकरे कह रहे हैं कि पुलिस बल उपलब्ध नहीं होने के कारण कार्रवाई नहीं हो सकी। वहीं आयुक्त के इस बयान पर एसपी मयंक अवस्थी का कहना है कि पुलिस बल उपलब्धता से कोई कार्रवाई रुक जाए, ऐसा नहीं होने देंगे। गुरुवार को पुलिस बल नहीं मिलने पर आयुक्त को मुझे जानकारी देनी चाहिए थी।

भू-माफिया के विरुद्ध कार्रवाई की समीक्षा में कलेक्टर-एसपी ने कड़ी कार्रवाई की कही थी बात
जिले में कानून व्यवस्था, जघन्य अपराध, मिलावट से मुक्ति, भू-माफिया, कालाबाजारी, एससीएसटी एक्ट के प्रकरणों में अब तक की कार्रवाई की समीक्षा गुरुवार को कलेक्टर प्रियंक मिश्रा व एसपी मयंक अवस्थी की मौजूदगी में हुई। दोनों ही अधिकारियों ने ऐसे मामलों में गुरुवार को कड़ी कार्रवाई की बात कही थी। इधर गुरुवार को ही जयप्रकाश वार्ड में कार्रवाई के लिए बल उपलब्ध नहीं होने का मामला सामने आया।

कलेक्ट्रेट के पीछे अवैध प्लाटिंग पर कार्रवाई
जिला प्रशासन द्वारा शुक्रवार को अवैध प्लाटिंग पर कार्रवाई की गई। कलेक्ट्रेट के पीछे अमकुही रोड पर अवैध प्लाटिंग को लेकर नागरिकों ने बताया कि इसमें एक पटवारी भी शामिल रहा। बतादें कि कलेक्ट्रेट के पीछे अवैध प्लाटिंग पर पत्रिका में प्रमुखता से खबर प्रकाशित हुई थी। एसडीएम ने बताया कि आरआर व अन्य स्टॉफ द्वारा जेसीबी चलाकर अवैध प्लाटिंग खुर्द-बुर्द किया गया।

माधवनगर में अतिक्रमण पर कार्रवाई की तैयारी
माधवनगर में सरकारी जमीन में सबसे ज्यादा अतिक्रमण का मामला सामने आने के बाद अतिक्रमणकारी अब कार्रवाई रोकने की तैयारी में जुट गए हैं। बताया जा रहा है कि इसके लिए अतिक्रमणकारी नए-नए पैंतरे आजमा रहे हैं। दूसरी ओर एसडीएम बलबीर रमण ने बताया कि सरकारी जमीन पर सबसे ज्यादा अतिक्रमण माधवनगर में है। आगे भी कार्रवाई होगी।

Show More
narendra shrivastava Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned