घोर लापरवाहीः बीत गया एक पखवारा, पुलिस नहीं लगा पाई महिला अधिवक्ता को धमकी देने वाले का सुराग

-महिला हिंसा के एक केस में पक्षकार हैं महिला अधिवक्ता

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 01 Aug 2020, 02:41 PM IST

कटनी. करीब एक पखवारा बीत गया लेकिन पुलिस महिला अधिवक्ता को उसके पुत्र समेत जान से मारने की धमकी देने वाले का सुराग नहीं लगा सकी है। ऐसे में महिला अधिवक्ता ने पुलिस से सवाल किया है कि जब जिस मोबाइल नंबर से धमकी मिली थी उसे बताने के बाद भी पुलिस यह तक नहीं पता लगा सकी है कि वह कौन है, जबकि पुलिस के पास सारे संसाधन हैं। अधिवक्ता ने पुलिस पर इस संगीन व संवेदनशील मामले में लापरवाही का आरोप लगाया है।

महिला अधिवक्ता अंजुला बजाज ने पुलिस से पूछा है कि जब नंबर है, तो फिर 15 दिन गुजर जाने के बाद भी पुलिस आरोपियों तक क्यों नहीं पहुंच पाई। महिला अधिवक्ता अंजुला का कहना है कि पुलिस ने यह भी नहीं बताया कि जिस नंबर से धमकी वाला कॉल आया था वह किसका है। उनका सवाल है कि पुलिस आरोपियों तक पहुंचने में क्यों लाचार दिख रही है जबकि फॉरेंसिक विभाग और साइबर सेल से कुछ ही दिनों में धमकी वाले कॉल में उपयोग किए गए नंबर को ट्रेस किया जा सकता है।

ये भी पढें- महिला अधिवक्ता को मिल रही बच्चे सहित जान से मारने की धमकी

बता दें कि महिला हिंसा के एक प्रकरण आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 354 के तहत मुकदमा दर्ज है। पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए महिला अधिवक्ता अंजुला बजाज पक्षकार है। अधिवक्ता अंजुला बजाज ने बताया कि मामला न्यायालय में लंबित है। इसके बीच ही उन्हें और उनके बेटे को फोन पर मारने की धमकी दी गई। वह भी एक नहीं कई बार। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस से इसकी शिकायत की। इस पर एएसपी ने उन्हें आश्वस्त करते हुए जल्द कार्रवाई के लिए कहा था। लेकिन अब तक 15 दिन बीत गए लेकिन पुलिस कुछ भी पता नहीं लगा सकी।

यहां बता दें कि महिला अधिवक्ता अंजुला बजाज और उनके बेटे अक्षय बजाज को 14 जुलाई को फोन पर जान से मारने की धमकी मिली थी। 3.11 मिनट पर पहला कॉल आया था। उसने मेरे एक केस जो आईपीसी की धारा 354 के तहत जिला न्यायालय कटनी में लंबित है। उसके संबंध में वह कहने लगा कि तुम सरदार के केस को छोड़ दो, नहीं तो अच्छा नहीं होगा। जब अधिवक्ता ने कहा कि केस नहीं छोडूंगी तो धमकियां देना शुरू कर दी और कहा कि यदि तुम केस नही छोड़ोगी तो तुम्हें और तुम्हारे बेटे को जान से मार देंगे। फिर से इसी नंबर से 3.18, 3.56, 4.01, 4.08, 4.10, 4.17 और रात 9 बजे कॉल आया। इसमें बार-बार केस छोड़ने के लिए कहा और केस नहीं छोड़ने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned