अपराध और नशामुक्त गांव बनाने के लिए इस जिले की पुलिस ने शुरू की खास पहल, देखें वीडियो

पुलिस ने कहा कि बच्चों को दें अच्छे संस्कार, नशा से करें तौबा, अपराधमुक्त बनाएं गांव, ग्राम चरी में कैमोर पुलिस ने किया पुलिस चौपाल का आयोजन, निपटाईं समस्याएं

By: balmeek pandey

Published: 25 Nov 2020, 08:59 AM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी/कैमोर. ग्रामीण अपराध अपराध व नशा की दुनिया से दूर रहें, एक सभ्य और अपराध मुक्त समाज का निर्माण हो इसके लिए पुलिस ने नई पहल शुरू की है। बरही थाना के बाद अब कैमोर पुलिस भी ग्राम चौपाल लगाना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में कैमोर टीआई अरविंद जैन ने थाना क्षेत्र के ग्राम चरी में चौपाल लगाई और ग्रामीणों की समस्या सुनी। पुलिस अधीक्षक कटनी ललित शाक्यवार एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संदीप मिश्रा के निर्देशन में बेहतर पुलिसिंग के लिए थाना प्रभारियों को थाना क्षेत्र के ग्रामों में पुलिस चौपाल आयोजित किए जाने निर्देशित किया गया है। सतना जिले की सीमा से लगे इस दूरस्थ ग्राम में पहली बार पुलिस की ओर से पुलिस चौपाल का आयोजन किया गया। मौके पर ही ग्राम वासियों की समस्याओं को सुना, उनके आवेदन पत्र और शिकायतें पंजीकृत कर मौके पर शिकायतों का निराकरण किया गया। पुलिस चौपाल में ग्राम पंचायत सरपंच राम बाई कोल, ग्राम पंच राम किशोर पटेल , आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सरिता सिंह, ग्राम रक्षा समिति की अध्यक्ष सकुन पटेल, कार्यकर्ता पिंकी दाहिया, पूजा दाहिया सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। थाना प्रभारी ने कहा कि घर परिवार में यदि हर मां, पिता, भाई चाचा अपने घर की संतानों को अच्छे संस्कार दें और नजर रखें तो गांव में अपराध मुक्त समाज की स्थापना की जा सकती है।
रामनिवास पटेल ने खेत जाने को रास्ता ना देने की बात पर शिकायत दर्ज कराई, जिसका निराकरण किया गया। रामकृपाल तिवारी ने जगदीश कोल के द्वारा खेत रास्ते में चबूतरा बनाए जाने से वाहन निकलने को परेशानी होने की शिकायत को जांच में लिया गया। रघुनाथ यादव द्वारा अपनी शादीशुदा बच्ची के साथ विजयराघव गढ़ में ससुराल वालों द्वारा परेशान किए जाने की शिकायत देने पर शिकायत को लेकर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है। महिला आरक्षक भावना तिवारी ने महिलाओं एवं बालक बालिकाओं से संबंधित कानूनी प्रावधान एवं महिलाओं व चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1090 एवं 1098 की जानकारी दी। आरक्षक रामकरण तिवारी ने यातायात दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए सदा हेलमेट लगाए जाने, शराब पीकर वाहन न चलाने और नाबालिक बच्चे बच्चियों को वाहन न चलाने देने के संबंध में जानकारी दी।

ग्रामीणों को दी समझाइश
बीट प्रभारी सहायक सुदामा प्रसाद दाहिया ने ग्राम रक्षा समिति के कानूनी प्रावधान उनकी उपयोगिता एवं पुनर्गठन के संबंध में जानकारी दी। थाना प्रभारी द्वारा मोबाइल फोन पर बैंक से संबंधित अकाउंट नंबर, आधार कार्ड या ओटीपी इत्यादि पूछ कर घटित हो रहे धोखाधड़ी के मामलों से बचने के लिए समझाइश दी गई। गांव को अपराध मुक्त बनाए जाने के लिए पुलिस प्रशासन के साथ हर ग्राम वासी की जिम्मेदारी होने की बात कही। छोटे-मोटे विवादों और झगड़ों को लेकर आपसी रंजिश के चलते बड़ी घटना हो जाने पर गंभीर मामले दर्ज हो जाते हैं, जिन से बचने के लिए छोटी मोटी शिकायतों को आपसी बैठक कर सुलझाने की बात कही गई।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned