कोरोना काल में पालकों के पाले में गेंद डालने की तैयारी

- सरकार मंगवा रही ऑनलाइन सुझाव, पालकों ने स्कूल में बच्चे सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं कर पाएंगे पालन.

- पालकों ने कहा, कोरोना से बचने ठोस उपाय होने तक नहीं खोले जाएं स्कूल.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 29 Jun 2020, 10:08 PM IST

कटनी. कोरोना संकट के बीच बच्चों की पढ़ाई को लेकर अब पालकों के पाले में गेंद डालने की तैयारी चल रही है। शैक्षणिक सत्र 2020-21 प्रारंभ करने के लिए जन समुदाय, छात्र-छात्रा, अभिभावक, स्कूल प्रबंधन, एनजीओ, शिक्षाविदों से सुझाव मंगाए जा रहे हैं। खासबात यह है कि ऑनलाइन मंगाए जा रहे सुझाव से ज्यादातर अभिभावक अंजान हैं।

इस बीच कहा जा रहा है कि एक बड़ा तबका कोरोना के खतरे के बीच स्कूल खोलने की तैयारी में है। ऐसे में ऑनलाइन सुझाव की आड़ में खतरे की परवाह नहीं करते हुए स्कूल खोला जा सकता है। स्कूल खोलने को लेकर पत्रिका ने अभिभावकों से बात की तो ज्यादातर यही कहना है कि स्कूल में बच्चों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना मुश्किल होगा। इसलिए कोरोना से बचाव के लिए ठोस उपाय होने तक स्कूल नहीं खोला जाए।

सुझाव देने वाले अभिभावकों के क्रम में प्रदेश में इंदौर पहले और दूसरे स्थान पर छतरपुर है। तीसरे में भोपाल, चौथे में देवास और पांचवें में उज्जैन जिले के लोगों ने ज्यादा सुझाव दिए हैं। कटनी से भी लोग अपने सुझाव दे रहे हैं।
इस बारे में एपीसी अभय जैन बताते हैं कि जन समुदाय से ऑनलाइन सुझाव मंगाए जा रहे हैं। कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए मुख्यालय द्वारा लिए गए निर्णय के बाद आगे की प्रक्रिया होगी।


स्कूल खोलने को लेकर यह है अभिभावकों की राय
अभिभावक दिनेश यादव के अनुसार बेटा समीर कक्षा सातवीं में पढ़ता है। स्कूल खोलने के लिए ऑनलाइन सुझाव मंगवाए जा रहे हैं, क्या बच्चों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने की सुविधा है। कोरोना को देखते हुए स्कूल नहीं खुलना चाहिए।

अभिभावक लालबाबू ने बताया कि उनकी हमारी बिटिया अंशिका ऑर्डिनेंश स्कूल में पढ़ती है। कोरोना काल को देखते हुए फिलहाल स्कूल नहीं लगना चाहिए। स्कूल में बच्चे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर पाएंगे।

अभिभावक मनोज सोनी के अनुसार उनकी हमारी बिटिया सरकारी स्कूल में पढ़ती है। जिस तरह से कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, इसे देखते हुए फिलहाल स्कूल नहीं खोला जाना चाहिए।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned