दमकल कर्मियों ने दिखाया हौंसला, जान की बाजी लगाकर निकाला शव, देखें वीडियो

14 घंटे की मशक्कत के बाद निकला मिल में दबा मजदूर का शव, मिल मालिक ने मृतक के परिजनों की नहीं की कोई मदद

By: balmeek pandey

Published: 07 Dec 2020, 09:29 AM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. इंडस्ट्रियल एरिया लमतरा में संचालित केवीएस नारायणी दालमिल में ब्लास्क के साथ भड़की आग अभी भी सुलग रही है। मिल का अधिकांश हिस्सा जलकर खाक हो गया है, जिसमें लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। मिल में हरिओम सिंह (19) निवासी मरदरी जिला उमरिया का शव हादसे के बाद फंस गया था। पूरी रात बचाव कार्य जारी रहा। रविवार सुबह 10 बजे कड़ी मशक्कत के बाद शव को निकाला गया। इस दौरान फायर ब्रिगेड की टीम से शैलेंद्र दुबे, भोला प्रसाद, अकरम खान, अनिल, विक्रम सिंह की टीम बनाकर शव निकालने प्रयास किया। जान की बाजी लगाकर शव को निकाला। इस दौरान एसडीइआरएफ की टीम प्रभारी श्वेता गुप्ता के नेतृत्व में राहत कार्य में लगी रही। इसमें विकास शर्मा, ललित सिंह, अभिषेक दुबे, ऋचा दीक्षित, हरवंश सिंह, विवेक विश्वकर्मा आदि ने सहयोग किया। पुलिस ने भी सक्रिय भूमिका निभाई। सुबह एएसपी संदीप मिश्रा, एसडीएम बलवीर रमण, तहसीलदान मुन्नौवर खान, सीएसपी शशिकांत शुक्ला, नायब तहसीलदार रवींद्र पटेल, माधवनगर थाना प्रभारी संजय दुबे, कुठला स्टॉफ आदि पहुंचे और शव को बाहर निकाला। आग किस वजह से लगी, इसका खुलासा नहीं हुआ है। वहीं मिल मालिक जिनेंद्र जैन की बेपरवाही सामने आई है। मजदूर की मौत होने के बाद भी परिजनों की अबतक कोई मदद नहीं की। पुलिस ने शव का पीएम कराते हुए परिजनों को सौंप दिया है। वहीं प्रशासन की बेपरवाही सामने आई है, रात में शव को निकालने सक्रिय कार्रवाई नहीं की गई।

लमतरा इंडस्ट्रियल एरिया की घटना
शनिवार की रात 8.15 बजे तेज धमाके के साथ नारायणी दाल मिल में आग भड़क उठी। देखते ही देखते आग ने पूरी मिल को अपनी आगोश में ले लिया। हादसे में हरिओम सिंह उम्र 19 वर्ष निवासी ग्राम मरदानी जल गया है। 14 घंटे से राहत कार्य जारी रहा। नगर निगम के दमकल वाहन आग पर काबू पाने की कोशिश करते रहे। दमकल प्रमुख शैलेन्द्र दुबे के नेतृत्व में आग पर काबू पाया जा रहा है। प्रत्यक्षदर्शी रंजीत सिंह निवासी मरदरी जिला उमरिया ने बताया कि अचानक तेज धमाका हुआ और पूरे मिल में आग भड़क उठी, इसमें हरिओम सिंह 19 वर्ष जल गया है। मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा और आग पर काबू पाने का प्रयास किया जाता रहा। दालमिल विकास अग्रवाल की बताई जा रही है। वहीं इस हादसे के बाद से इंतजाम की भी पोल खुल गई है यहां पर पानी की कोई व्यवस्था नहीं है कि आग पर काबू पाया जा सके।

इनका कहना है
पीएम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया गया है। फायर एंड सेफ्टी विभाग आग लगने के कारणों का पता लगाएगी। पुलिस भी मामले की जांच कर रही है। भारी मशक्कत के बाद शव को निकाला गया है।
मुन्नौवर खान, तहसीलदार।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned