कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण के बीच बाहर से आने की जानकारी छिपा रहे रेलकर्मी

बिना जांच और उचित परीक्षण में ड्यूटी में हो रहे शामिल.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 18 Jul 2020, 11:19 AM IST

कटनी. न्यू कटनी जंक्शन (एनकेजे) स्थित डीजल लोको शेड में दो कर्मचारी और मुख्य स्टेशन से सेवाएं देने वाले एक टीटीइ की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद रेल महकमे में हड़कंप है। जानकार बताते हैं कि गार्ड व अन्य विभाग में लगातार दो से तीन दिन की ड्यूटी के बाद चार दिन तक का आराम मिल रहा है। इस अवधि में कर्मचारी अपने घर बिहार व दूसरे प्रांत तक जा रहे हैं। खासबात यह है कि बाहर से आने के बाद रेलवे में बिना वेतन के 14 दिन क्वॉरंटीन रहने का नियम है। इसलिए बाहर से आने की जानकारी छिपाया जा रहा है। इधर रेलकर्मियों के इस बर्ताव का नुकसान उनके रहवास क्षेत्र में आसपास निवास कर रहे नागरिकों को हो रहा है।

सिविल लाइन में रहने वाले टीटीइ की रिपोट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद पता चला कि टीटीइ ने बिहार से आने की जानकारी छिपाई है। यही स्थिति लोको शेड के कर्मचारियों की रही। दोनों कर्मचारी दूसरे प्रांत की यात्रा कर आए थे, लेकिन ड्यूटी में शामिल होने के दौरान सहकर्मियों तक को पता नहीं चला कि ये लोग बाहर गए हैं।

कलेक्टर एसबी सिंह ने बताया कि हमने रेलवे के अधिकारियों से कहा है कि बाहर से आने वाले कर्मचारियों को 14 दिन क्वॉरंटीन करने के बाद ही ड्यूटी में शामिल करें। इसके अलावा रेलवे कर्मचारियों में सफाई पर ध्यान नहीं दिए जाने का मामला भी सामने आया है। अफसरों से कहा गया है कि सैनिटाइजेशन और सफाई पर ध्यान दिया जाए। अगर सजगता नहीं दिखाते हैं तो उच्चाधिकारियों को पत्र लिखेंगे।

बेरोकटोक आवाजाही से बढ़ा संक्रमण का खतरा, स्वास्थ्य विभाग के सलाह की अनदेखी
जिलेभर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच इसे रोकने के मामले में बड़ी लापरवाही सामने आई है। स्वास्थ्य विभाग के सलाह की अनदेखी का मामला भी सामने आया है। कटनी में शुक्रवार दोपहर तक कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 46 पहुंच गई। इसमें ज्यादातर ऐसे लोग शामिल रहे जो किन्ही न किन्ही कारणों से कटनी से बाहर गए थे। कोरोना संक्रमण लेकर वापस आए। कोरोना संक्रमण कम करने को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने प्रशासन को सलाह दी है कि बाहर जाने वाले और आने वालों की जानकारी नजदीकी थाने व कोटवार के पास दर्ज कराना सुनिश्चित किया जाए। बताया जा रहा है कि प्रशासन द्वारा इस बारे में ध्यान नहीं दिए जाने के कारण ऐसे लोगों की मॉनीटरिंग नहीं हो पा रही है।

बिना जांच टीटीइ स्टॉफ की लग रही ड्यूटी
जो भी रेलवे कर्मचारी अवकाश से वापस आ रहे है उनकी बगैर जांच और होम क्वॉरंटीन किए ही ड्यूटी लगा दी जा रही है। सबसे ज्यादा ड्यूटी टीटी स्टॉफ की लग रही है। 14 जुलाई को छुट्टी से आए टीटी भी लगातार ड्यूटी कर रहे हैं। 16 को भी ड्यूटी लगाए जाने की खबर है। हैरानी की बात तो यह है जो भी बाहर से आ रहे हैं उनके द्वारा स्वयं भी एहतियात नहीं बरती जा रही।

अफसर नहीं दे रहे ध्यान
रेलवे में दर्जनों की संख्या में अधिकारी-कर्मचारी बाहर से आकर बिना जानकारी दिए ड्यूटी कर रहे हैं। ऐसे मामलों में मंडल और जोन के अफसर ध्यान नहीं दे रहे हैं। डीआरएम और एडीआरएम भी स्थानीय अफसरों की बेपरवाही को नजरअंदाज कर रहे हैं।

Corona virus
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned