15 दिन में हुई यह पहल और धड़ाधड़ कम हो गया कोरोना वायरस का प्रकोप

12 लाख लोगों की हुई जांच, तीन हजार को दवा देकर पाया महामारी की भयावहता पर काबू, फीवर क्लीनिक में उपचार से मिली बड़ी राहत, किल कोरोना अभियान से किल हुआ वायरस

By: balmeek pandey

Published: 28 May 2021, 10:20 PM IST

कटनी. हर दिन कोविड-19 महामारी के मरीज घट रहे हैं। सोमवार को एक अंक तो मंगलवार को दो अंकों में आंकड़ा पहुंचा। महामारी के हाहाकार से जिले को मुक्ति मिली है। यह बेसक खुशी के क्षण हैं, लेकिन उससे कहीं ज्यादा जरूरी है सावधानी व सतर्क रहना। तीसरी लहर भयावह हो सकती है, जिसको ध्यान में रखते हुए लोगों को कोविड गाइड लाइन का पालन करना नितांत आवश्यक है। जिले में महामाहारी से निजात मिली है उसमें किल कोरोना अभियान की बड़ी ही सक्रिय भूमिका है। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाई गई रणनीति काम आई। स्थिति यहां तक आ पहुंची कि सोमवार को हुए किल कोराना अभियान सर्वे में में कोई केस सामने नहीं आया। जिला महामारी विशेषज्ञ डॉ. राशि गुप्ता ने बताया कि 15 दिन के अभियान में 12 लाख लोगों की जांच हुई। इनकी जांच में ग्रामीण क्षेत्र में 3 हजार 471 संदिग्ध पाए गए। 2 हजार 990 लोगों को दवा की किट दी गई, उससे कोरोना में काबू पाया गया। 352 लोग ऐसे थे जिनकी फीवर क्लीनक में उपचार के बाद राहत मिली। कुल 26 पॉजिटिव आए, जिन्हें उपचार दिया गया।
बता दें कि किल कोरोना-2, सर्वे-3 में शहरी क्षेत्र में कोविड सहायता केंद्र बनाए गए, 4 जोन बनाकर सहायता केंद्र में लोगों ने रिपोर्ट किया। ग्रामीण क्षेत्र में घर-घर सर्वे हुआ, उन्हें दवा की किट वितरित की गई। सर्वे के पहले लोग ज्यादा स्वास्थ्य खराब होने पर अस्पताल आ रहे थे, जिससे उन्हें बचाना मुश्किल हो रहा था। अभियान से जल्दी चिन्हित कर उपचार देने में सफलता मिली है। जिनके यहां होम आइसोलेट व क्वॉरंटीन रहने की सुविधा नहीं थी, उनको ग्रामीण क्षेत्र में सेंटर बनाए, मुख्यालयों में सेंटर बनाकर संक्रमण को रोका गया। स्थिति यहां तक पहुंच गई थी कि एक व्यक्ति के संक्रमित होने पर पूरा परिवार संक्रमित हो रहा है, जिन्हें भी कोविड कमांड सेंटर से कंट्रोल किया गया।


31 मई तक कोराना मुक्त जिला करने का लक्ष्य
बता दें कि प्रशासन का लक्ष्य 31 मई तक कोरोनामुक्त जिला करना है। 31 मई तक जो ग्राम पंचायत संक्रमित हैं, उन 59 पंचायतों में सर्वे कराने कहा गया है, फिर से उपचार देने योजना बनी है। यलो-ग्रीन जोन में वैक्सीनेशन पर जोर दिया जा रहा है। टीकाकरण सखी के माध्यम से भी जागरुक किया जा रहा है, 5-6 घरों में जागरुक कर रही हैं। ताकि लोगों में ज्यादा से ज्यादा इम्युनिटी बढ़ाने पर काम हो सके। बता दें कि ग्राम 460 प्राइमरी टीम में आंगनवाड़ी, आशा कार्यकर्ता, एएनएम, एक सुपरवाइजर 206 लोग कर रहे थे, जिसमें सचिव, स्टॉफ नर्स शामिल थीं, कैसा उपचार देना है यह देख रहीं थीं। ग्रीन जोन में 407 ग्राम पंचायत में 59 ग्राम पंचायत में एक या एक से अधिक केस थे। वहीं 348 कोरोना मुक्त हो चुकी हैं। कटनी में सिर्फ वार्ड नंबर 18 और 19 रेड जोन में, यलो जोन में 6 वार्ड 8, 15, 35, 14, 41, 43 हैं, शेष वार्ड ग्रीन जोन में हैं।

यह है स्थिति
जिले में लगातार केस कम हो रहे हैं। केस 9 हजार 317 केस पहुंच गए थे। सोमवार को 83 डिस्चार्ज हुए हैं। अबतक 94 प्रतिशत डिस्चार्ज हो गए हैं। 8 हजार 859 लोग कोविड को मात देकर घर पहुंच चुके हैं। अभी एक्टिव केस 370 हैं। मंगलवार को भी 75 लोग डिस्चार्ज किए गए। अब 260 केस ही एक्टिव बचे हैं। वहीं 82 प्रतिशत लोग होम आससोलेट हैं। मंगलवार को 11 केस सामने आए हैं। जिले में 24 घंटे में पॉजिटिविटी 1.1 प्रतिशत है। सात दिवस में पॉजिटिविटी 30 प्रतिशत से 3 पर आ गई है। 31 मई तक संक्रमण को रोकने के लिए प्रयास जारी हैं।

balmeek pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned