पिता-बेटी की गई थी जान, फिर बेगुनाहों पर मंडरा रहा ये खतरा...देखिए वीडियो

Mukesh Tiwari

Publish: Jun, 24 2019 12:00:29 PM (IST)

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. 19 अगस्त 2018 की काली रात...। यह ऐसी रात थी, जिससे पूरा जिला दहल उठा था। घटना इतनी भयावह थी कि जिस किसी ने देखा, उसके रोंगटे खड़े हो गए। महज कुछ सेकंड में भाजपा जिलाध्यक्ष पीताम्बर टोपनानी की छह वर्षीय मासूम पोती आद्या नगर निगम लापरवाही से मौत के नाले समा गई। जिगर के टुकड़े को बचाने पिता प्रशांत भी उफनाते नाले में कूद गया और आलम यह हुआ कि घटना एक दिन बाद परिजनों को दोनों शव हाथ लगा। इस भीषण हादसे के बाद भी नगर निगम प्रशासन ने सबक नहीं लिया। एक साल बाद फिर शहर के एक दर्जन से अधिक नाले एक बार फिर बारिश में लोगों के लिए काल बनने को तैयार हैं।
दिखावे के लिए शुरू हुआ काम
हादसे के बाद तत्कालीन कलेक्टर केवीएस चौधरी ने नगर निगम प्रशासन को तत्काल नाले सुरक्षित कराने निर्देश दिए थे। इसके बाद महापौर शशांक श्रीवास्तव, तत्कालीन नगर निगम आयुक्त टीएस कुमरे ने शहर के 61 खुले नालों सुरक्षित करने के लिए प्लान तैयार किया। दिखावे के लिए काम भी शुरू हुआ लेकिन जैसे ही हादसे का माहौल शांत हुआ वैसे ही मौत को नालों को सुरक्षित करने का सिलसिला भी बंद हो गया।

ये भी खास खबर-यहां कटनी नदी में एक पुल बनने से लोगों को मिलेगी ये सुविधा...पढि़ए खबर


सैकड़ों छात्रों की आवाजाही, नहीं सुरक्षा
माधवनगर के घटना स्थल से चंद कदमों की दूरी पर उत्कृष्ट स्कूल के पास ही बड़ा नाला सड़क के दोनों ओर असुरक्षित है। नाले के बगल में ही स्कूल का छात्रावास संचालित है और उसमें सैकड़ों छात्र-छात्राएं रहकर पढ़ाई कर रहे हैं। छात्रावास के गेट की ओर ही सुरक्षा के लिए न तो दीवार खड़ी की गई है और न ही जाली लगाने का काम हुआ है। सड़क के दूसरी ओर भी नाले की यही स्थिति है।
पत्रिका अमृतं जलम् अभियान- अब मोहनघाट को निर्मल बनाने उठे श्रमवीरों के हाथ...देखिए वीडियो

Risk of accidents from open drains
IMAGE CREDIT: patrika


बरगवां में भी असुरक्षित नाला
बरगवां मुख्य मार्ग पर भी एक बड़ा नाला असुरक्षित है। मुख्य मार्ग से कटाएघाट इंडस्ट्रियल एरिया की ओर जाने वाले मार्ग के कोने में नाले का एक हिस्सा खुला पड़ा है। जिसमें वाहन मोड़ते या बारिश में पानी भरा होने के दौरान लोग दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। मार्ग से ही हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के लिए भी लोग निकलते हैं।
यहां भी है असुरक्षा
- गुरुनानक वार्ड में शनि मंदिर से सब्जी मंडी मार्ग के बीच
- चांडक चौक में मोहन घाट से लगा नाला
- घंटाघर में तिलक राष्ट्रीय स्कूल के पास
- धर्मलोक हास्पिटल के पास आदर्श कॉलोनी
- मुख्य मार्ग गुलाबचंद स्कूल के समीप
इनका कहना है...
शहर के अधिकांश नालों में सुरक्षा को लेकर जाली लगाने, दीवार बनाने का कार्य कराया गया है। अन्य नालों के लिए भी बारिश से पूर्व ही चिन्हित कर व्यवस्थित कराने को कहा गया है। किसी भी प्रकार की घटना न हो, इसको लेकर बेहतर इंतजाम कराए जाएंगे।
शैलेन्द्र शुक्ला, प्रभारी आयुक्त नगर निगम

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned