यहां 30 साल से एक ही संकाय का ज्ञान पा रहे छात्र...जानिए कारण

स्थापना के बाद से स्लीमनाबाद कॉलेज में नहीं हुई विज्ञान संकाय की शुरुआत, छात्रों को हो रही परेशानी

By: mukesh tiwari

Published: 01 Jul 2019, 12:00 PM IST

कटनी. स्लीमनाबाद में 30 वर्ष पूर्व शासकीय महाविद्यालय की स्थापना की गई थी लेकिन तब से लेकर आज तक छात्रों को सिर्फ कला संकाय की सुविधा ही मिली है। विज्ञान संकाय के लिए आज भी छात्रों को दूर शहर जाना होता है या मजबूरी में पढ़ाई छोडऩी पड़ रही है। स्लीमनाबाद से लगे 80 के लगभग गांव हैं। जिनके छात्रों की सुविधा के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने 1989 में शासकीय कालेज की स्थापना की थी। जिसमें आर्ट विषय की कक्षाएं संचालित की गईं। वर्षों बीतने के बाद भी एक ही संकाय का संचालन कॉलेज में हो रहा है और इस कारण से विज्ञान, गणित जैसे विषयों से आगे की पढ़ाई जारी रखने छात्रों को कटनी या जबलपुर के कॉलेजों का सहारा लेना पड़ रहा है। वहीं आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को पढ़ाई छोडऩे मजबूर होना पड़ रहा है।

एसएमएस से पहुंचनी थी जानकारी, चार माह बीते, अधूरा पड़ा काम...पढि़ए खबर
दो साल पूर्व हुई थी घोषणा
वर्ष 2017 में स्लीमनाबाद के नवीन नायब तहसीलदार कार्यालय के उद्घाटन के समय पूर्व उच्च शिक्षा राज्य मंत्री संजय पाठक ने कॉलेज में बीएससी की कक्षाएं शुरू कराने का आश्वासन दिया था। दो साल बाद वह घोषणा पूरी नहीं हो सकी है। तहसील का दर्जा मिलने के बाद अब एक बार छात्रों को फिर से संकाय के शुरू होने की आस बंधी है।

पत्रिका अमृतं जलम् अभियान- शहर की जीवनदायिनी को जीवन देने जुटे लोग...देखिए वीडियो
इनका कहना है.
शासकीय महाविद्यालय में विज्ञान संकाय की नितांत आवश्यकता है। हर वर्ष कई छात्रा एडमीशन लेने आते हैं लेकिन विज्ञान संकाय न होने से उन्हें वापस लौटाना पड़ता है। संकाय शुरू कराने को लेकर उच्च शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर भी मांग की गई है।
डॉ. सरिता पांडेय, प्राचार्य, शासकीय महाविद्यालय स्लीमनाबाद

~ स्लीमनाबाद शासकीय महाविद्यालय में विज्ञान संकाय शुरू कराने को लेकर जल्द ही उच्च शिक्षामंत्री से मुलाकात करेंगे। उनके सामने छात्रों की समस्या को रखकर विज्ञान संकाय शुरू कराने का प्रयास किया जाएगा।
प्रदीप त्रिपाठी, ब्लॉक अध्यक्ष, कांग्रेस कमेटी

~ कॉलेज में विज्ञान संकाय शुरू कराने को लेकर विभागीय मंत्री के साथ ही अधिकारियों से भी पत्राचार करेंगे। छात्रों को असुविधा न हो और गांव में ही उच्च शिक्षा मिले, इसके लिए प्रयास किए जाएंगे।
प्रणय पांडेय, विधायक बहोरीबंद

mukesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned