scriptSerious negligence in sewer line | अमृत पार्ट-2: 100 करोड़ रुपये से शहरीक्षेत्र में डलेगी सीवर और हाउस सर्विस लाइन | Patrika News

अमृत पार्ट-2: 100 करोड़ रुपये से शहरीक्षेत्र में डलेगी सीवर और हाउस सर्विस लाइन

रिवर फ्रंट योजना के तहत मोहनघाट से लेकर गाटरघाट तक होगा पौधरोपण व सौंदर्यीकरण का काम
एलएन मालवीय इन्फ्रा द्वारा शहर में किया जा रहा डीपीआर सर्वे का काम, अधिकांश हुआ पूरा

कटनी

Published: April 14, 2022 10:04:18 pm

कटनी. अभी तक शहर के बहारी हिस्सों व कुछ क्षेत्र में अमृत योजना के तहत सीवर लाइन और पेयजल सप्लाई लाइन पर काम हुआ है। केके स्पन कंपनी ने अभी तक काम पूरा नहीं किया, लेकिन अब नगर निगम द्वारा अमृत-2 योजना पर काम शुरू कर रहा है। इसके लिए शहर में सर्वे का काम भी शुरू हो गया है। बता दें कि इसके लिए एलएन मालवीय इन्फ्रा भोपाल द्वारा डीपीआर सर्वे शुरू कर दिया गया है। यह सर्वे डीजीपीएस (डिजिटल ग्लोबल पॉजिशन सिस्टम) के माध्यम से किया जा रहा है। सर्वे शहर के अधिकांश हिस्से में पूरा हो गया है।
जानकारी के अनुसार सीवरेज लाइन के साथ वॉटर सप्लाई के लिए सर्वे हो रहा है। इसमें शहर में रोशन नगर में और एसटीपी प्लांट बनेगा। लगभग 100 किलोमीटर पर यह दोनों काम होने हैं। काम पूरा होते ही टेंडर की प्रक्रिया होगा, जिसके बाद काम शुरू होगा। लगभग 100 करोड़ रुपये का यह काम होगा, जिसका सर्वे चल रहा है। इस काम से शहरवासियों को बड़ी सहूलियत मिलेगी।

अमृत पार्ट-2: 100 करोड़ रुपये से शहरीक्षेत्र में डलेगी सीवर और हाउस सर्विस लाइन
अमृत पार्ट-2: 100 करोड़ रुपये से शहरीक्षेत्र में डलेगी सीवर और हाउस सर्विस लाइन

जीवनदायनी की बदलेगा स्वरूप
समय पर बजट प्रावधान हुआ तो शीघ्र ही अब शहर में जीवनदायनी कटनी नदी का स्वरूप बदला नजर आएगा। अमृत पार्ट-2 के माध्यम से गाटरघाट से लेकर मोहनघाट तक नदी संवारी जाएगी। यहां पर पौधरोपण के साथ सौंदर्यीकरण काम कराया जाएगा। दोनों तरफ घाट का निर्माण होगा। एसटीपी बनाए जाएंगे।

योजना को लेकर खास-खास:
- अमृत-2 को 2023-24 तक 100 प्रतिशत करना है पूरा।
- पार्ट-2 में शहर का 25 प्रतिशत शामिल है क्षेत्रफल।
- सीवरेज लाइन में 52.37 करोड़ रुपये है अनुमानित राशि।
- 50 प्रतिशत केंद्र, 50 प्रतिशत राज्य व 10 प्रति ननि का रहेगा अनुदान।
- 7.50 एमएलडी क्षमता का है प्रस्तावित कार्य।
- 21 करोड़ से नालों का सुदृढ़ीकरण, नवीनीकरण होगा शामिल।

पार्ट-1 की यह है दुर्दशा
शहर में अमृत प्रोजेक्ट के पार्ट-1 की स्थिति बेहद दुर्भाग्यूपर्ण है। 219 किमी में से महज 104 किमी सीवर लाइन ठेकेदार द्वारा डाली गई है। वह भी गुणवत्तायुक्त नहीं है। ठेकेदार को टर्मिनेट करने की कार्रवाई चल रही है। अभी ठेकेदार का पक्ष सुना जा रहा है। ठेकेदार केके स्पन प्राइवेट लिमिटेड ने महज 34 प्रतिशत अबतक काम है। बता दें कि 2019 में ठेकेदार द्वारा पूरे शहर में 219 किलोमीटर की सीवर लाइन डालकर तीन एसटीपी बनाते हुए शहर का ड्रेनेज सिस्टम ठीक करना था। 9 हजार 140 हाउस चेम्बर बनाई जाएने थे, अभी तक महत 3553 ही बन पाए हैं। 03 एसटीपी में से एक भी तैयार नहीं हुआ है। ये माधवनगर, कटोघाट मार्ग व कुठला में बनने हैं। इतना ही नहीं 68 किलोमीटर हाउस सर्विस लाइन पर भी काम नहीं हो पाया।

इनका कहना है
शहर में अमृत प्रोजेक्ट-2 के तहत कार्ययोजना तैयार की गई है। सीवर लाइन और पेयजल सप्लाई लाइन के लिए डीपीआर तैयार करने निजी कंपनी द्वारा सर्वे किया जा रहा है। अप्रेल माह में डीजीपीएस सर्वे पूरा कराना है। लगभग सौ करोड़ रुपये की यह कार्ययोजना बनी है।
सत्येंद्र सिंह धाकरे, आयुक्त ननि।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

श्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिटमनी लान्ड्रिंग मामले में फारूक अब्दुल्ला को ED ने भेजा समन, 31 मई को दिल्ली में होगी पूछताछ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.