ऑक्सीजन न मिलने से तड़प रहे थे कोविड मरीज, एक डॉक्टर थे गायब, दूसरे कर रहे थे आराम, देखें वीडियों

सीएमएचओ ने आधीरात किया जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण तो खुल कर सामने आई गंभीर बेपरवाही, सीएमएचओ ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मरा तो सीधे दर्ज कराऊंगा एफआईआर

By: balmeek pandey

Published: 21 Apr 2021, 07:53 PM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

कटनी. जिला अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच वैश्विक महामारी से लड़ रहे कोविड-19 के मरीज अभी तक जिला अस्पताल की अव्यवस्था को स्वयं उजागर कर रहे थे। समय पर उपचार न मिलना, रेमडेसीविर इंजेक्शन न लगाया जाना, ऑक्सीजन की व्यवस्था ना किया जाना सहित बिस्तर ना मिलने आदि की समस्या उजागर कर रहे थे। वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में डालकर पीड़ा बयां कर रहे थे, लेकिन इस पर किसी भी प्रशासनिक अधिकारी का ध्यान नहीं जा रहा था। जिला अस्पताल प्रबंधन द्वारा लगातार बेहतर व्यवस्था किए जाने का दावा किया जा रहा था, लेकिन सोमवार रात एक बजे मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रदीप मुडिय़ा ने स्टाफ के साथ औचक निरीक्षण किया तो मनमानी की पूरी कलई खुलकर सामने आ गई। यहां पर वार्ड में ऑक्सीजन न मिलने के कारण कोविड-19 के मरीज तड़प रहे थे।
जब सीएमएचओ रात में ओपीपी पहुंचे तो सिर्फ एक नर्स बैठी थी। डॉ. राजीव डॉक्टर में रूम में आराम करते पाए गए। जब ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक मृगेंद्र श्रीवास्तव के बारे में पूछा गया तो वे गायब रहे। ड्यूटी डॉक्टर राजीव द्विवेदी ने कहा कि मृगेंद्र खाना खाने गए हैं। इस पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि मृगेंद्र को तत्काल फोन लगाकर बुलाओ। डॉक्टर मृगेंद्र को फोन पर कहा कि किसके ऑर्डर पर घर गए और इस तरह की ड्यूटी कर रहे हैं। मरीज मर रहे हैं और तुम रेस्ट करने जा रहे हो। सीएमएचओ ने कहा कि किसी मरीज को ऑक्सीजन की कमी है क्या तो डॉक्टर ने कहा दिया कि सिलेंडरों की कमी है, तो सीएमएचो भड़क गए और कहा कि मुमने आकर देखा नहीं, यहां सिलेंडर पड़े हुए हैं, लगातार सिलेंडर भेजे जा रहे हैं, इसके बाद भी मरीजों को नहीं लगा रहे। 7 बजे सिलेंडर दिए और 11 बजे तक ऑक्सीजन मरीजों को नहीं लगी। बिना ऑक्सीजन के बाद यदि किसी की मौत हुई तो सीधे एफआइआर दर्ज कराऊंगा। प्रशासन व्यवस्था बनाकर परेशान है और तुम लोग मजाक बना रखे हो।

इस बात पर भड़के सीएमएचओ
सीएमएचओ मरीजों का तड़पना देखा नहीं गया और वह जमकर आक्रोशित हो उठे। उन्होंने गुस्से में कहा कि फ्रॉड हो तुम लोग। दोनों डॉक्टरों को जमकर लताड़ा एवं कहा कि यदि कल से किसी भी मरीज की ऑक्सीजन से मौत हुई तो तुम दोनों डॉक्टरों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराऊंगा। तुम लोगों ने समझ क्या रखा है। लोग हैरान परेशान हैं और मनमानी कर रहे हो। सीएमएचओ ने कहा कि किसके आदेश पर तुम दोनों ने आधी आधी ड्यूटी कर ली है। मौके से नदारद डॉक्टर को फोन पर जमकर लताड़ा और कहा कि मैं तुम्हें बताता हूं क्या होती है ड्यूटी। इतना ही नहीं मरीज व उनके परिजनों ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से पीड़ा बयां की कि उन्हें कोई भी डॉक्टर देखने नहीं आ रहा डॉक्टर दुत्कार देते हैं कहते हैं कि हमें और भी मरीजों को देखना है तो जी भर यहां भर्ती नहीं हो।

आइसीयू का था यह हाल
सीएमएओ डॉ. प्रदीप मुडिय़ा, एपीएम विजय सोनी, श्याम सिंह आदि के साथ आइसीयू वार्ड में पहुंचे तो देखा कि एक मरीज की कोविड से मौत हो चुकी थी, दूसरे संदेही को भर्ती किया जा रहा था, दो नर्सें गार्ड के साथ जद्दोजहद कर रही थीं। जबकि आइसीयू में हर समय चिकित्सक की निगरानी में मरीजों का उपचार होना है, इसके बाद भी गंभीर बेपरवाही की जा रही थी।

COVID-19
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned