राशन परिवहन करने वाले ट्रकों की जीपीएस ट्रैकिंग के लिए तीन साल में तैयार नहीं हुआ सर्वर

गोदाम से राशन लेकर दुकान तक जाने वाले ट्रकों में परिवहन के दौरान गड़बड़ी रोकने जोर-शोर से शुरू की गई तैयारी.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 06 Jan 2021, 09:44 PM IST

 

कटनी. सार्वजनिक वितरण प्रणाली में आमजनों को मिलने वाली राशन की गुणवत्ता से खिलवाड़ रोकने के लिए 2017 में नागरिक आपूर्ति निगम (नान) ने जीपीएस ट्रैकिंग की तैयारी प्रारंभ की। जरूरतमंद परिवारों को मिलने वाले अनाज की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए जरूरी योजना तीन साल बाद भी पटरी पर नहीं उतरी। इस बीच जिम्मेंदार अफसरों ने राजधानी से लेकर जिले तक कई दौर की बैठकें भी की। इसके बाद भी स्थिति यह है कि राशन लेकर गोदाम से राशन दुकान तक जाने वाले ट्रकों की जीपीएस ट्रैकिं के लिए अब तक सर्वर ही तैयार नहीं हो सका।

नान के जिला एमडी पीयूष माली बताते हैं कि सर्वर उपलब्ध नहीं होने के कारण राशन लेकर जाने वाले ट्रकों की जीपीएस ट्रैकिंग नहीं हो पा रही है। दो ट्रकों में मशीन लगी है। सर्वर की व्यवस्था होने के बाद सभी ट्रकों में लगवाकर मॉनीटरिंग की जाएगी।

6 जनवरी नेशनल टेक्नोलॉजी डे पर आज हम बात कर रहे हैं राशन दुकान में अनाज की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए राशन दुकान तक जाने वाले ट्रकों की जीपीएस ट्रैकिंग व्यवस्था की। हमारी जरूरतों के अनुरूप तकनीक के क्षेत्र में कई अविष्कार हुए हैं। इससे जीवन में कई सहूलियतें मिली है तो कई बार क्रियान्वयन और जिम्मेंदारों की बेपरवाही के कारण तकनीक दिखावा साबित होकर रह गया है। सरकार के सही उद्देश्य के साथ तीन साल पहले इसे पटरी पर लाने की कोशिशें प्रारंभ की। लेकिन जिम्मेंदारों की बेपरवाही के कारण यह व्यवस्था अब तक पटरी पर नहीं उतरी। कटनी में स्थित यह है कि तीन साल के लंबे अंतराल में महज 2 ट्रकों में ही जीपीएस मशीन है, लेकिन ट्रैकिंग के लिए सर्वर नहीं होने के कारण वह भी उपयोगी साबित नहीं हो रहा है।

एक नजर राशन वितरण पर
- राशन लेकर गोदाम जाने वाले ट्रकों से अनाज बदलने व अन्य गड़बड़ी की आती रही हैं शिकायतें।
- 1 लाख 98 हजार 864 परिवार हैं, जिन्हे राशन दुकान से मिलती है अनाज।
- 2 हजार 53 मिट्रिक टन गेहूं, 652 एमटी चावल और 688 एमटी जनवरी माह का आबंटन।
- 3 मिट्रिक टन शक्कर का आबंटन जनवरी माह में रहा अंत्योदय परिवारों के लिए।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned