बांकेबिहारी ने गोपियों संग खेली फूलों की होली

बांकेबिहारी ने गोपियों संग खेली फूलों की होली

माधवनगर समदडिय़ा सिटी में श्रीमद् भागवत कथा में कृष्ण-सुदामा चरित्र पर प्रवचन


कटनी। फूलों की होली के साथ माधवनगर समदडिय़ा सिटी होटल लॉन में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा को विराम दिया गया। श्रद्धालुओं ने राधा-कृष्ण का रूप धरा और गोपियों संग फूलों की होली खेली। फूलों से सज रहे हैं, श्रीवृंदावन बिहारी.. सहित अन्य गीतों के बीच श्रद्धालुओं ने भगवान के साथ  बरसाने की होली की भी प्रस्तुति दी। वहीं मथुरा से आए कलाकारों ने भी भक्ति गीतों के बीच कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। देर शाम आरती के साथ प्रसाद का वितरण किया गया।

सुदामा की तरह बनें संतोषी
कथा के अंतिम दिन कथा व्यास पं. शिवकुमार शास्त्री ने कृष्ण सुदामा चरित्र  व परीक्षित मोक्ष की कथा पर प्रवचन दिया। उन्होंने कहा कि जहां पर स्वार्थ होता है, वहां पर मित्रता नहीं होती। क्योंकि मित्रता में स्वार्थ का स्थान नहीं होता है। उन्होंने कहा कि सुदामा यह अच्छी तरह जानते थे कि उनका मित्र द्वारिका का नाथ है। विप्र सुदामा का संतोष जीवन पर्यंत बना रहा। 
वह कठिन परिस्थितियों में भी विचलित नहीं हुए और उसी का फल उन्हें प्रभु ने दिया। कथा व्यास ने लोगों से सुदामा की तरह संतोषी बनने और मित्र से छल व चोरी न करने की बात कही। इस दौरान समदडिय़ा गु्रप के अजीत समदडिय़ा, विक्की डागा,  मिथलेश जैन, चमनलाल आनंद, विश्वनाथ गुप्ता, सीमा जैन, अंतू मिश्रा, रमेश सोनी आदि मौजूद रहे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned