पार्षद बोले महापौर ने काट दिया बजट, दूसरे पार्षद कुर्सी से उठे और शुरु हो गया...

raghavendra chaturvedi

Publish: Apr, 17 2018 11:32:15 AM (IST)

Katni, Madhya Pradesh, India
पार्षद बोले महापौर ने काट दिया बजट, दूसरे पार्षद कुर्सी से उठे और शुरु हो गया...

हंगामेदार रही नगर निगम कटनी में परिषद की बैठक, पार्षद भिड़े तो 15 मिनट के लिए बैठक हुई स्थगित

कटनी. परिषद बैठक शुरु होते ही हंगामा हुआ। धारा 53 के तहत तत्काल मिनिट्स बाटने का प्रावधान है। मिनिट्स बांटने में लेट होने और सात माह में बैठक बुलाने पर विपक्ष के पार्षदों ने हंगामा किया। जवाब में महापौर ने कहा बैठक के लिए तत्तकॉलीन नगर निगम आयुक्त संजय जैन को पत्र लिखा था। उनके द्वारा तैयारी नहीं करने पर निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। बैठक में चर्चा के दौरान कांग्रेस पार्षद साक्षी गोपाल साहू ने कहा कि उनके वार्ड में होने वाले विकास कार्यों के बजट महापौर ने काट दिए। उन्होंने कहा कि भाजपा पार्षद के वार्डों में बजट नहीं कटते। इस पर भाजपा के पार्षद गौरीशंकर भड़क उठे और दोनों पार्षदों के बीच विवाद हुआ। आपस में भिड़ भी गए। अन्य पार्षदों ने बीच बचाव किया। 15 मिनट के लिए बैठक स्थगित कर दी गई।

तीन साल से सिटी बस चलाने और ट्रांसपोर्ट नगर बसाने की बात, इस बार गरीबों को एक हजार में नल कनेक्शन का दिखाया सपना
नगर निगम में बजट को लेकर परिषद की बैठक सात माह बाद सोमवार बैठक हुई। बजट में लगातार तीसरे साल सिटी बस चलाने, ट्रांसपोर्ट नगर बसाने और अवैध कॉलानियों की नियमितिकरण की बात कही गई। तीन साल से इन घोषणाओं के पूरा नहीं होने के पीछे नगर निगम के जिम्मेंदार अलग-अलग कारण बता रहे। इस बार बजट में बीपीएल कार्डधारियों को एक हजार रुपये में नल कनेक्शन और 90 रुपये मासिक बिल पर पानी दिए जाने का सपना दिखाया। बजट चर्चा पर महापौर द्वारा प्रतिवेदन पढ़े जाने के साथ ही भाजपा पार्षद बजट पास करने की मांग की। विपक्ष ने बिना चर्चा बजट पास नहीं किए जाने को कहा। अब 28 अप्रैल को बजट पर चर्चा होगी।

शहर में इन निर्माण कार्यों के लिए तीन साल से किया जा रहा प्रावधान

शहर में इन निर्माण कार्यों के लिए तीन साल से किया जा रहा प्रावधान
योजना 2016-17 17-18 18-19

आडिटोरियम निर्माण 16 130 129
आईएचएसडीपी आवास 56 390 1000
ट्रांसपोर्ट नगर 100 1400 1100

विशेष: सिटी बस के लिए तीन साल से प्रावधान रखा जा रहा, इस साल 300 लाख का प्रावधान।
- मल्टी पार्किंग के लिए 433 लाख का प्रावधान।

एक साल में 2 अरब से 7 अरब पहुंच गया निगम का बजट
वर्ष अनुमानित कुल आय कुल व्यय
2016-17 8817.22 8789.42
2017-18 27635.27 27568.30
2018-19 71096.89 71090.74
राशि करोड़ में


एजेंडे के सवालों के जवाब नहीं दे पाए अधिकारी
- एजेंडे में महत्वपूर्ण पत्र व्यवहार, शासन के क्या पत्र आए और नगर निगम ने किससे क्या कम्यूनिकेशन किया। शामिल था। इस पर पार्षदों के सवालों के जवाब पर निरुत्तर रहे अधिकारी।
- बजट में संपति कर की राशि बकाया बताई गई। पार्षदों ने सवाल किया कि किस पर कितना बकाया है। इस सवाल का जवाब नहीं दे पाए नगर निगम के अधिकारी।

नियम 17 पर लगाए ये सवाल
नेता प्रतिपक्ष मिथिलेष जैन द्वारा नियम 17 के तहत सिवर लाइन निर्माण उपरांत ठेकेदार द्वारा सड़क को पूर्व की भांति बनाने, 24 सामुदायिक शौचालय का निर्माण जगह निर्धारित किए बिना टेंडर दिए जाने और ठेकेदार को 20 प्रतिशत एबभ में काम दिए जाने का सवाल लगाया गया।

दो माह में परिषद की बैठक का नियम, यहां 13 माह में तीन बैठक
नगर निगम परिषद की बैठक आयोजित करवाने से बचती रही है। नियम है कि हर दो माह में परिषद की बैठक होनी चाहिए। यहां 13 माह में तीन ही बैठक हुई है। इसमें 31 मार्च 2017, 29 अगस्त 2017 और 16 अप्रैल 2018 की बैठक शामिल है। तीन बैठकों में दो बैठक बजट से जुड़ा रहा है।


खास-खास
- परिषद की बैठक में कांग्रेस पार्षदों ने एकजुटता दिखाई। परिषद में कांग्रेस के 14 पार्षदों में 12 मौजूद रहे। भाजपा के 31 पार्षद 6 एल्डरमैन और 1 सांसद प्रतिनिधि सहित विधायक संदीप जायसवाल भी मौजूद रहे।
- परिषद की बैठक में एकजुटता दिखाने पर कांग्रेस नेताओं ने पार्षदों का सम्मान किया। पार्षदों को माला पहनाकर स्वागत किया गया। इस दौरान कांग्रेस नेता राकेश जैन कक्का, राजा जगवानी सहित अन्य नेता मौजूद रहे।
- नगर निगम बजट में इस बार शहर में होने वाले मूलभूत निर्माण कार्यों में बजट की राशि कम कर दी गई है। बीते वर्ष सीमेंट, डामर, नाली पेवर ब्लॉक निर्माण की राशि 660 लाख थी इस बार 380 लाख है।
- विपक्ष के पार्षदों ने आरोप लगाए कि मूलभूत विकास कार्यों की राशि काटकर अंडर ब्रिज में लगाई जा रही है। व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा में शहर का नुकसान होगा।

- महापौर शशांक श्रीवास्तव ने बताया कि बीपीएल कार्डधारियों के लिए महापौर नजजल योजना लाए हैं। पहले कनेक्शन पर 5 से 6 हजार रुपये इंस्टालेशन और 158 रुपये मासिक बिल लगता था। अब कम लगेगा। सिटीबस, ट्रांसपोर्ट नगर, अवैध कॉलोनी का प्रावधान तीन साल से कर रहे हैं। इस साल ये काम पूरे हो जाएंगे। बजट में पार्षद स्वेच्छानुदान 10 लाख रुपये दिया है। महापौर अपनी स्वेच्छा से पूरे वार्ड का विकास कार्य करा सकेंगे। पार्षद विवाद पर उन्होंने कहा कांग्रेस पार्षद साक्षी गोपाल साहू के वार्ड में जीएसटी के कारण दिक्कतें हुई। अब ढाई सौ टेंडर दो माह के भीतर हुए हैं। अंडर ब्रिज के लिए एक करोड़ विशेष निधि से आ गया था। विकास कार्य कहीं बाधित नहीं होंगे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned