वृद्धजनों की आंख में धूल झोंक रहे बदमाश, पुलिस के रवैए ने बढ़ाई परेशानी

लंबे समय से बैंक के आसपास सक्रिय गिरोहों पर नहीं हो पा रही प्रभावी कार्रवाई.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 30 Dec 2020, 10:42 AM IST

कटनी. पेंशन व जीवन भर की गाड़ी कमाई से एक-एक पैसा जुटाकर बैंक में जमा करने के बाद उसे लेने के लिए आने वाले वृद्धजन ऐसे गिरोह का शिकार हो रहे हैं जो सीधे आंख में धूल झोंककर हजारों रूपये लूट ले रहे हैं। कोतवाली थानान्तर्गत 15 दिन के अंतराल में ऐसे दो मामले सामने आए।

खासबात यह है कि बैंकों के आसपास ऐसे गिरोह पूर्व में भी सक्रिय रहे हैं। वृद्धजनों का कहना है कि उनको आर्थिक क्षति पहुंचाने के मामले शिकायत के बाद पुलिस का बेपरवाह रवैया ज्यादा परेशान करता है।

कोतवाली थाना प्रभारी वीके विश्वकर्मा बताते हैं कि माया बर्मन की शिकायत पर जांच करवाई है। सीसीटीवी फुटेज में अस्पताल के आसपास रूपये गायब होने जैसी इनपुट नहीं मिल रहे हैं। महेश प्रसाद की शिकायत मिली है। जांच करवा रहे हैं। वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

maya bai
माया बाई IMAGE CREDIT:

बैंक से निकलते ही गायब 40 हजार रूपये
शहर के बरगवां निवासी 65 वर्षीय माया बाई ने बताया कि 18 दिसंबर को स्टेट बैंक से 40 हजार रूपये निकाला। रूपये निकालने के बाद समीप में ही अस्पताल के सामने दुकान में बेटे के लिए गर्म कपड़े खरीदने गई। वहां जाकर देखा तो पर्स से चालीस हजार रूपये गायब। पीडि़ता ने बताया कि 18 दिसंबर को ही कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज करवाई। 21 दिसंबर को एसपी से फरियाद के बाद राहत नहीं मिली।

 

mahesh prasad
महेश प्रसाद IMAGE CREDIT:

गायब हो गए 23 हजार रूपये
देवरा निवासी महेश प्रसाद ने बताया कि जिला सहकारी बैंक में 28 दिसंबर को 50 हजार रूपये निकालने के बाद बैंक के अंदर ही रूपये गिन रहे थे। गड्डी को दो भागों में अलग कर पहले 46 नोट पहले गिना। फिर शेष नोट गिना और लौटते में पहली गड्डी लाना भूल गया। बाद में 23 हजार की जानकारी लेने गया तो किसी ने नहीं बताया। पीडि़त ने कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कर राहत की मांग की है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned