जज को पिला रहे थे जहरीला पानी, ऐसे हुआ खुलासा

शिकायत लेकर दुकान पहुंची उपभोक्ता उत्थान संगठन की महिलाएं, बनाया पंचनामा

By: dharmendra pandey

Published: 11 Dec 2017, 11:22 AM IST

कटनी. अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग दिवस के अवसर पर पुलिस कंट्रोल रूम में रविवार को हुई बैठक में जजों को कीड़ा युक्त पानी देने का मामला सामने आया। बोतल बंद पानी में कीड़ा पाए जाने पर बैठक में शामिल उपोक्ता उत्थान संगठन की महिलाएं साधूराम स्कूल के पास संचालित पानी सप्लाई करने वाली दुकान पहुंची। यहां पर संस्थान की सदस्यों ने दुकान संचालक से उस कंपनी का नहीं बेचने की हिदायत दी। जिस पर दुकानदार ने कहा कि मेरे यहां पर पानी नही बनता। एजेंसी वाला पानी पहुंचाता है। दुकान में करीब एक घंटे तक संगठन की महिलाओं व दुकानदार के बीच बातचीत चलती रहीं। इस दौरान उपभोक्ता उत्थान संगठन की गीता जोशी, जिलाध्यक्ष प्रीति सेन, श्वेता अग्रवाल, ममता गर्ग, राजश्री स्वर्णकार सहित अन्य सदस्य मौजूद रहीं। इधर, पाठक आईसक्रीम दुकान के नाम से संचालित कर रहे दुकानदार ने बताया कि उपभोक्ता संगठन की महिलाओं द्वारा बोतल बंद पानी में कीड़ा मिलने की शिकायत की गई है। एजेंसी द्वारा दुकान में पानी पहुंचाया जाता है। इस संबंध में एजेंसी को जानकारी दी गई है।

फोरम के राष्ट्रीय अध्यक्ष से कराई बात:
पानी की बंद बोतल में कीड़ा मिलने पर उपभोक्ता उत्थान संगठन की महिलाएं जिस समय पंचनामा बना रही थी। उसी समय दुकानदार ने उपभोक्ता उत्थान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष का हवाला दिया और बात कराई। इसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष का फोन संगठन की राष्ट्रीय सचिव के पास आया। जिसके बाद संगठन की सदस्यों ने दुकान संचालक का नाम छोड़कर एजेंसी के नाम का पंचनामा बनाया।

इनका कहना:
मानवाधिकार दिवस पर अवसर पर कंट्रोल रूम में चल रहीं बैठक में शामिल जजों को जो पीने का पानी दिया गया था। उसमें कीड़े दिखाई दे रहे थे। जिस पर दुकान पहुंचकर पंचनामा कार्रवाई की गई है।
प्रीति सेन, जिलाध्यक्ष, उपभोक्ता उत्थान महिला संगठन।
........................

मैंनें इसलिए फोन किया था कि जो भी कार्रवाई हो वह वैधानिक प्रक्रिया के तहत हो। ताकि संगठन की कार्रवाई पर कोई उंगली न उठा सके।
हरिशंकर शुक्ला, राष्ट्रीय अध्यक्ष उपभोक्ता उत्थान संगठन।
...................................

Patrika
dharmendra pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned