स्कूल के समीप शराब बेचने वाला गिरोह तीन दिन बाद भी पुलिस गिरफ्त से बाहर

-एसपी बोले टीआइ से कहा है करें कड़ी कार्रवाई

-शासकीय माध्यमिक शाला पडुआ में स्कूली बच्चों के शराब पीकर पहुंचने का मामला

By: dharmendra pandey

Published: 01 Mar 2020, 01:42 PM IST

कटनी. शासकीय माध्यमिक शाला पडुआ में शराब पीकर स्कूल पहुुंचने वाले बच्चों के मामले में शराब बेचने वाला गिरोह घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इधर इस पूरे मामले में झिंझरी चौकी पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल उठ रहे हैं। बतादें कि झिंझरी चौकी प्रभारी प्रीति पांडेय शुक्रवार को गांव भी गईं थी, लेकिन आरोपियों को पकडऩे के बजाए वो भविष्य में शराब नहीं बेचने की समझाइश देकर लौट आईं थी। पुलिस की इस कार्रवाई पर ग्रामीण सवाल उठा रहे हैं। ग्रामीणों की मांग है कि उनके बच्चों का भविष्य बर्बाद करने वाले गिरोह पर ठोस कार्रवाई की जाए। इधर, मामले को लेकर पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार का कहना है कि थाना प्रभारी को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
उल्लेखनीय है कि शासकीय प्राथमिक माध्यमिक शाला पडुआ के करीब 5 विद्यार्थी शराब के नशे में स्कूल पहुंच गए थे। कक्षा में पहुुंचते ही दो छात्रों के बेहोश होने की शिक्षकों को जानकारी लगी। शिक्षकों ने परिजनों को बताया था। इसके बाद आक्रोशित परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर शराब बेचने वालों खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। उसके अड्डे पर जाकर तोडफ़ोड़ की थी। ग्रामीणों की भीड़ देख शराब बेचने वाले भाग खड़े हुए थे। 2 महिलाओं को बच्चों के साथ ग्रामीणों ने पकड़ लिया था। काम बंद करने की हिदायत दी थी। इस दौरान ग्रामीणों ने करीब साढ़े 17 लीटर देशी शराब जब्त की और तालाब में ले जाकर नष्ट कराया था। पत्रिका में खबर प्रकाशित होने के बाद पुलिस और स्कूल शिक्षा विभाग का अमला हरकत में आया था। 28 फरवरी को गांव पहुंचकर चौकी प्रभारी झिंझरी प्रीति पांडेय ने मौका स्थल का निरीक्षण किया था। इस दौरान पुलिस को देखते ही एक महिला भाग खड़ी हुई थी। दूसरी जो महिला मिली थी, उससे पूछताछ की तो उसने शराब नहीं बेचने की बात बताई थी। चौकी प्रभारी झिंझरी का कहना था कि कई बार उसके ठिकाने को नष्ट कराया जा चुका है। गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश जारी है।

Show More
dharmendra pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned