नहीं है गांव में हाइस्कूल, 10 किमी दूर मिलती है शिक्षा, परेशान होती है बेटियां

पर्याप्त बिजली न मिलने से अन्नदाताओ को हो रही परेशानी, पेयजल के लिए भी होती है परेशानी, गांव में रहता है गंदगी का आलम, जिम्मेदार बेखबर, ग्राम पंचायत पहरुआ के रहवासी परेशान

By: balmeek pandey

Published: 24 Dec 2020, 11:20 AM IST

कटनी/स्लीमनाबाद. गांव में ही विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा शिक्षा मिल जाए, इसके लिए सरकार द्वारा माध्यमिक शालाओं का हाइस्कूल मे उन्नयन कर रही है। लेकिन बहोरीबंद विकासखण्ड की एक ऐसी ग्राम पंचायत पहरुआ जहां हाइस्कूल की नितांत आवश्यकता है। ग्रामीणों के द्वारा अनेकों बार जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को पत्र लिखकर मांग की जा चुकी है, हाइस्कूल न खुल पाने से अधिक दूरी पर हाई स्कूल की शिक्षा ग्रहण करने जाने पर गांव की बेटियां पढ़ाई नहीं कर पातीं। उन्हें 8वीं के बाद पढ़ाई या तो छोडऩी पड़ती है या फिर 10 किलोमीटर दूर देवरी या फिर बिलहरी जाना पड़ता है। ग्रामीण भगवत पटेल, सुनील बर्मन, बलराम लोधी, बसंत कोल, शिवलाल कोल, राजेश साहू ने बताया कि सरकार कृषि को लाभ का धंधा बनाने का ढिंढोरा पीट रही है। नित नई योजनाओं का दावा किया जा रहा है। कृषि कार्य के लिए 10 घंटे निर्बाध रूप से बिजली देने का दावा किया जा रहा है, लेकिन गांव में विकास और सुविधाओं की हकीकत दावों से एकदम उलटा है। किसानों को न तो पर्याप्त बिजली मिल रही और ना ही कोई विशेष सुविधाएं। रबी सीजन की बोवनी का समय लगभग समाप्ति की ओर है लेकिन अबतक किसानों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल रही। किसानों के हितों के लिए न तो प्रशासनिक अधिकारी और ना ही जनप्रतिनिधि कोई ध्यान दे रहे।


ग्राम-पहरुआ
आबादी-2500
ग्राम पंचायत-पहरुआ
तहसील-स्लीमनाबाद
जिला-कटनी

जलाशय का मिल जाये पानी तो हो सके खेती
वही किसानों ने बताया 5 किलोमीटर की दूरी पर घुघरा गावँ मैं जलाशय है। यदि उसी जलाशय से नहर का निर्माण हो जाये तो गांव के कृषक रबी सीजन की खेती पर्याप्त मात्रा मे कर सकते हैं। पानी की कमी के चलते किसानों को भूमि छोडऩी पड़ती है। निजी बोरवेलों के सहारे ही सिंचाई हो पाती है, लेकिन धीरे धीरे जल स्तर में कमी आ जाती है, जिससे सिंचाई कार्य पूरा नही हो पाता। साथ ही गांव में स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर भी कोई स्वास्थ्य केंद्र नहीं है। जिससे ग्रामीणों को उपचार के लिए बहोरीबंद या स्लीमनाबाद जाना पड़ता है।

इनका कहना है
ग्रामीणों को समस्या को दिखवाया जाएगा। इस संबंध मे सचिव से जानकारी ली जाएगी। विद्युत कटौती हो रही है तो उसे ठीक कराया जाएगा। हाइसकूल की सुविधा हो इस संबंध मे शिक्षा विभाग के अधिकारियों से चर्चा की जाएगी।
विजय द्विवेदी, तहसीलदार बहोरीबंद।

balmeek pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned