scriptThere will be drinking water problem in Katn | इस शहर में अभी से शुरू होने वाली है पेयजल समस्या, एक माह पहले ही नदी का बहान हुआ शून्य, जल्द शुरू हो जाएगी कटौती | Patrika News

इस शहर में अभी से शुरू होने वाली है पेयजल समस्या, एक माह पहले ही नदी का बहान हुआ शून्य, जल्द शुरू हो जाएगी कटौती

5250 मिलियन लीटर बचा पानी का स्टोरेज, अभी 33 की जगह हो रही 23 एमएलडी पेयजल सप्लाई

कटनी

Updated: October 23, 2021 08:52:54 pm

कटनी. जिले में 1124 मिलीमीटर औसत से काफी कम वर्षा हुई है, जिसका सीधा असर न सिर्फ कृषि पर पड़ रहा है बल्कि पेयजल संकट की आहट भी साफ दिखाई देने लगी है। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष एक माह पहले से ही नदी का बहाव शून्य हो गया है। इतना ही नहीं लगातार नदी का जल स्तर भी गिर रहा है। बहाव शून्य होने के बाद अकेले अक्टूबर माह में ही लगभग तीन इंच गिरावट दर्ज की गई है। इससे यह साफ है कि आने वाले दिनों में गंभीर पेयजल संकट की स्थिति बनेगी। ऐसे में हर किसी को पेयजल के महत्व को समझते हुए फिजूलखर्ची रोकनी होगी, क्योंकि नगर निगम, प्रशासन और जनप्रतिनिधियों के बूते अबतक कोई ठोस समाधान शहर की प्यास बुझाने के लिए नहीं निकाला गया। नर्मदा जल लाने की योजना भी खटाई में पड़ी हुई है।
जानकारी के अनुसार बैराज में 5250 मिलियन लीटर पानी का स्टोरेज है। प्रतिदिन लगभग 20 से 23 एमएलटी पानी सप्लाई का दावा नगर निगम कर रही है। प्रति व्यक्ति 135 लीटर पानी की सप्लाई शहर में होनी चाहिए, लेकिन अभी ननि मात्र 80 से 90 लीटर ही पेयजल की सप्लाई कर पा रहा है। अब शीघ्र ही कटौती शुरू हो जाएगी।

इस शहर में अभी से शुरू होने वाली है पेयजल समस्या, एक माह पहले ही नदी का बहान हुआ शून्य, जल्द शुरू हो जाएगी कटौती
इस शहर में अभी से शुरू होने वाली है पेयजल समस्या, एक माह पहले ही नदी का बहान हुआ शून्य, जल्द शुरू हो जाएगी कटौती

कई क्षेत्र में है गंभीर समस्या
नगर निगम दो समय सप्लाई का टैक्स वसूल रही है। हर माह बढ़ोत्तरी भी हो रही है, इसके बाद भी पर्याप्त पेयजल नहीं दिया जा रहा। शहर के अंमीरगंज, चांदमारी, साईं मंदिर, झिंझरी, पडऱवार, इंदिरा नगर, अधारकाप सहित शहर के अन्य कई इलाकों में न सिर्फ कम सप्लाई होती है बल्कि कई बस्तियों में पानी नहीं पहुंच पा रहा, जिससे लोगों को परेशानी होती है।

फैक्ट फाइल
- 21530 उपभोक्ताओं के हैं होती है ननि की जल सप्लाई।
- 192 रुपये प्रति माह लिया जा रहा जलकर
- 33 से 35 एमएलडी होनी चाहिए सप्लाई।
- 5 हजार से अधिक उपभोक्ता कम फोर्स से परेशान।
- 4 वार्डों की कई बस्तियों में है गंभीर पेयजल समस्या।

ऐसे समझें ननि की भी परेशानी
विद्युत विभाग की अघोषित कटौती से भी पेयजल सप्लाई प्रभावित होती है। इससे टंकिया नहीं भर पातीं। शुक्रवार को 5 से साढ़े 6 बजे तक लाइट बंद थी। 21 अक्टूबर को भी बिजली बंद रही, 18 अक्टूबर को साढ़े 11 बजे से 12 बजे तक, 16 अक्टूबर को साढ़े 12 बजे से 3 बजे तक, 20 अक्टूबर को भी बिंजली बंद रही। आए दिन बिजली बंद होने के कारण बैराज का काम बंद हो जाता है। शहर की टंकियां न भर पाने के कारण भी सप्लाई प्रभावित होती है।

इनका कहना है
बैराज में नदी का ओवरफ्लो बंद हो गया है। जल स्तर भी कम हो रहा है। नदी के ऊपर भी लोग पानी सिंचाई के लिए ले रहे हैं। दो समय सप्लाई नहीं हो रही है। जल स्तर कम होने पर अल्टरनेट पानी देंगे। लोगों को पेयजल की महत्ता को समझते हुए फिजूलखर्ची रोकनी होगी। जहां पर समस्या है उसे दिखवाया जाएगा।
सत्येंद्र सिंह धाकरे, आयुक्त नगर निगम।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दम5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामNEET Counselling 2021: राउंड 1 के लिए रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनIPL Auction: किस टीम के पास बचा कितना पैसा? जानें मेगा ऑक्शन से जुड़ी सारी डिटेलशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.