scriptThreatening villagers for complaining of corruption | एइ ग्रामीणों को दे रहे धमकी न करें भ्रष्टाचार की शिकायत, गजब की चल रही है कारगुजारी | Patrika News

एइ ग्रामीणों को दे रहे धमकी न करें भ्रष्टाचार की शिकायत, गजब की चल रही है कारगुजारी

ग्रामीणों ने कलेक्टर से शिकायत कर पंचायत में हुई गड़बड़ी व दोषियों पर कार्यवाही करने रखी मांग

कटनी

Updated: July 29, 2021 08:59:55 pm

कटनी. जनपद क्षेत्र कटनी अंतर्गत ग्राम पंचायत हिरवारा में तत्कालीन सचिव कृष्ण कुमार व सरपंच, रोजगार सहायक की मिलीभगत से जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। हैरानी की बात तो यह है कि ग्रामीणों की शिकायत के बाद भ्रष्टाचार उजागर होने के बाद भी जनपद व जिला पंचायत के अफसर कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे। मंगलवार को ग्रामीण पवित्र कुमार बर्मन, मनीष बर्मन, साहिल दाहिया, राजेश तिवारी, अखिलेश मनोज, कपिल, राजेश दाहिया, दीपक पयासी ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को दी गई शिकायत में बताया कि ग्राम पंचायत में सरपंच वंदना चौधरी, सचिव, उपयंत्री के द्वारा 60 लाख रुपये की सड़कें बनाई गई हैं। सड़कें अधूरी हैं, नालियों का निर्माण नहीं हुआ। गुणवत्ता से भी खिलवाड़ किया गया है। मनरेगा में भी जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है। लगातार प्रमाणित शिकायत जनपद सीइओ, जिला पंचायत सीइओ से की गई, लेकिन आजतक कार्रवाई नहीं हुई। ग्रामीणों ने चेताया है कि 15 दिवस में कार्रवाई नहीं हुई तो वे आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

corruption
corruption

जांच कर तो रहे हैं, फिर क्यों शिकायत
पवित्र बर्मन ने बताया कि एइ तीरथ प्रसाद गुर्दवान धमकी दे रहे हैं कि जब हम हिरवारा मामले की जांच कर रहे हैं तो फिर क्यों भ्रष्टाचार की शिकायत कर रहे हैं। पेपबाजी क्यों करा रहे हैं। इस मामले में एइ का कहना है कि ग्रामीणों से हमने कुछ नहीं कहा। जांच चल रही है। सचिव और रोजगार सहायक हड़ताल पर हैं, अभिलेख नहीं आ पाए इसलिए जांच पूरी नहीं हुई।

सवालों में जांच रिपोर्ट
ग्रामीणों द्वारा एक साल पहले गुणवत्ताविहीन सड़क निर्माण कराए जाने की शिकायत की थी, जिसके जिसमें 6 सड़कों की जांच तीरथ प्रसाद गुर्दवान ने जांच की थी। इसमें गुणवत्ताविहीन सड़क का निर्माण पाया गया था, जिसमें सुधार की बात कहकर मामले को रफादफा कर दिया है। इस मामले में एई का कहना है कि हमने जांच रिपोर्ट जनपद सीइओ को सौंप दी थी, इसमें क्या कार्रवाई हुई वहीं बताएंगे।

50 हजार से अधिक भुगतान, रिकवरी 10 हजार की
बता दें कि पंचायत में काम कर रहे कम्प्यूटर ऑपरेटर को 50 हजार रुपये से अधिक का भुगतान मनरेगा में फर्जी हाजरी भरकर किया गया है। अलग से भुगतान हुआ है वह अलग। इसमें एइ तीरथ प्रसाद गुर्दवान ने जांच की तो मात्र 10 हजार रुपये की ही पंचायत पर रिकवरी का प्रतिवेदन बनाया है। जबकि यहां पर कई लाख रुपये का भुगतान फर्जी हाजरी से हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रियंका गांधी पर बरसी मायावती कहा, कांग्रेस वोट कटवा बीएसपी को ही वोट देंCovid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारशोएब अख्तर बोले- 'विराट कोहली की जगह होता तो शादी नहीं करता, उन्हें कप्तानी छोड़ने के लिए किया गया मजबूर'राजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडमध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.