scriptTilak College Canteen could not be built even in 12 years | 2010 में हुई घोषणा व स्वीकृत हुई राशि, 12 साल में भी नहीं बन पाई कैंटीन | Patrika News

2010 में हुई घोषणा व स्वीकृत हुई राशि, 12 साल में भी नहीं बन पाई कैंटीन

तिलक कॉलेज में विद्यार्थियों की सुविधा के लिए हुई थी पहल, मान्नियों ने ध्यान दिया ना ही अफसरों ने, उच्च शिक्षा विभाग को भी नहीं कोई सरोकार
देखरेख के अभाव व गुणवत्ताविहीन कार्य के चलते खंडहर में तब्दील हो रही कैंटीन

कटनी

Published: July 04, 2022 09:17:08 pm

कटनी. केंद्र सरकार ने शिक्षा व्यवस्था सुधारने के लिए नई शिक्षा नीति लागू की है। स्कूलों, कॉलेजों की दिशा-दशा सुधारी जा रही हैं, लेकिन कटनी शहर का अग्रणी तिलक कॉलेज अव्यवस्थाओं से घिरा हुआ है। आपको जानकर हैरानी होगी कि 2010 में तत्कालीन विधायक गिरिराज किशोर पोद्दार ने तिलक कॉलेज में कैंटीन निर्माण की घोषणा की। 5 लाख रुपये की राशि जारी की गई। राशि कम पडऩे पर फिर से राशि दी गई, लगभग तीन बार में 8 लाख रुपये से अधिक की राशि कैंटीन के लिए दी गई। 2008 से 2013 तक विधायकी का कार्यकाल रहा। निर्माण एजेंसी ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग को बनाया गया था। समय रहते विभाग ने कैंटीन का काम पूरा नहीं किया। 2013 से 2018 तक बड़वारा विधायक रहे मोती कश्यप ने विधानसभा में प्रश्न भी उठाया, लेकिन इसके बाद भी कैंटीन को चालू करने ध्यान नहीं दिया गया। विद्यार्थियों को कॉलेज में कैंटीन की सुविधा मिले, इसके लिए फिर किसी जनप्रतिनिधि ने ध्यान नहीं दिया।

2010 में हुई घोषणा व स्वीकृत हुई राशि, 12 साल में भी नहीं बन पाई कैंटीन
2010 में हुई घोषणा व स्वीकृत हुई राशि, 12 साल में भी नहीं बन पाई कैंटीन

जिम्मेदारों की उदासीनता
जिम्मेदारों की उदासीनता का ही यह नजारा है कि 12 साल से अधिक समय से बनाए जा रहे कैंटीन में किसी तरह से छत तो पड़ गई है, लेकिन चालू नहीं हो पाई। छात्र व कर्मचारियों को चाय नस्ते के लिए बाहर जाना पड़े, इसके लिए जिले के लीड कॉलेज होने के कारण परिसर में एक कैंटीन हो, इसके लिए पहल हुई। जितने पर आरइएस ने रुपयों की कमी बताई राशि मिली, इसके बाद भी कैंटीन शुरू न होना जिम्मेदारों की उदासीनता का उदाहरण है। अब स्थिति यह है कि कैंटीन की दीवारों में दरारें आना शुरू हो गईं और व खुलने से पहले ही खंडहर में तब्दील होती दिख रही है।

ठेले-टपरों में फटकते हैं विद्यार्थी
कॉलेज में कई विद्यार्थी कई किलोमीटर गांव-देहात से पहुंचते हैं। जल्दबाजी में कई बार टिफिन नहीं ला पाते या फिर लाने की व्यवस्था नहीं होती। शहर के विद्यार्थी भी नास्ते के लिए परेशान होते हैं। भूख लगने पर तिलक कॉलेज के बाहर लगने वाले ठेले-टपरों में चाय-समासो व अन्य खाद्य सामग्री से काम चलाते हैं। कैंटीन की स्वीकृति के बाद भी इसे चालू नहीं कराया गया।

अफसरों व जनप्रतिनिधियों को नहीं कोई सरोकार
कॉलेज में ही बच्चों को कैंटीन की सुविधा मिले इसको लेकर जनप्रतिनिधयों की बड़ी बेपरवाही सामने आई है। एक छोटी सी कैंटीन बनने में 12 साल से अधिक का वक्त लगना अपने आप में एक विफलता की कहानी है। राजनीतिक रोटियां सेंकने वाले जनप्रतिनिध सिर्फ वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं, विद्यार्थियों की समस्या से तनिक भी सरोकार नहीं है। छात्र विकास दुबे ने कहा कि यदि नेता चाहते तो अबतक कबसे कैंटीन बन गई होती। वहीं जिला के कलेक्टर को भी कोई लेना-देना नहीं है। हर सोमवार को योजनाओं की समीक्षा होती थी, जिस पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं।

इनका कहना है
अभी आचार संहिता लगी हुई है तो काम होना मुश्किल है। आचार संहिता खत्म होने के बाद कॉलेज की कैंटीन में बचे काम को पूरा कराते हुए चालू कराने पहल की जाएगी। कैंटीन का काम ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग से हो रहा है। समय पर काम पूरा हो, इसके लिए कई बार पत्रचार संबंधित विभाग व उच्च शिक्षा विभाग को किया गया है।
डॉ. एसके खरे, प्राचार्य तिलक कॉलेज।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार कल 2 बजे लेंगे शपथ, मंत्रिमंडल में बन सकते हैं 35 मंत्रीनीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, कहा- हमें 164 विधायकों का समर्थनरवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से पूछा बीजेपी के साथ क्यों आए थे? पीएम मोदी के नाम पर आपको जीत मिली, ये कैसा अपमान?पश्चिम बंगाल के बीरभूम में दर्दनाक हादसा, ऑटोरिक्शा और बस की टक्कर में 9 लोगों की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख'मुफ्त रेवड़ी' कल्चर मामले में सुप्रीम कोर्ट में आमने-सामने AAP और BJP, आम आदमी पार्टी ने कहा- PM मोदी ने 'दोस्तवाद' के लिए खाली किया देश का खजाना23 बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सेरेना विलियम्स ने अचानक किया रिटायरमेंट का ऐलान, फैंस हुए भावुकMaharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपBihar New Govt: नीतीश कुमार CM, डिप्टी CM व होम मिनिस्ट्री राजद के पाले में, कांग्रेस से स्पीकर बनाए जाने की चर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.