पढ़ाई की न डिग्री ली करने लगे इलाज

बहोरीबंद में तीन झोलाछाप डॉक्टरों पर तहसीलदार ने दर्ज करवाई एफआइआर.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 30 Nov 2020, 09:41 AM IST

कटनी. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच ग्रामीण अंचल में झोलाछाप डॉक्टर भी मानव स्वास्थ्य के लिए खतरा बन रहे हैं। स्थिति यह है कि कई झोलाछाप डॉक्टर न तो चिकित्सा संबंधी कोई पढ़ाई की न ही किसी भी प्रकार की डिग्री ली और इलाज करने के लिए दुकान खोलकर बैठ गए। कटनी जिले के बहोरीबंद जनपद मुख्यालय में बिना लाइसेंस और डिग्री के लोगों का इलाज करने वाले तीन दवाखाना पर तहसीलदार ने कार्रवाई की। जांच के दौरान वैध दस्तावेज नहीं मिलने के बाद एफआइआर दर्ज करवाई गई है।

तहसीलदार विजय द्विवेदी ने बताया कि जांच के दौरान तितली सेंटर दवाखाना बस स्टेंड बहोरीबंद संचालक आरके पटेल, शासकीय उचित मुल्य की दुकान के पास प्रदीप मलिक ठाकुर, बस स्टेंड के पास चांदसी दवाखाना संचालक गोपाल हालदार के क्लीनिक की जांच की गई। जांच के दौरान लाइसेंस और डिग्री नहीं मिलने के पर तीनों के खिलाफ मध्यप्रदेश राज्य आजुर्विज्ञान परिषद एक्ट 1956,1958 24 की धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज करवाया गया है।

raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned