scripttunnel accident | स्लीमनाबाद हादसे के 24 घंटे पहले से रिसते पानी पर अफसरों ने एक्सक्वेटर मशीन तो बाहर निकलवाई, लेकिन मजदूरों की सुरक्षा भूल गए | Patrika News

स्लीमनाबाद हादसे के 24 घंटे पहले से रिसते पानी पर अफसरों ने एक्सक्वेटर मशीन तो बाहर निकलवाई, लेकिन मजदूरों की सुरक्षा भूल गए

- खतरे की आशंका को नजरअंदाज कर ठेकेदार के इशारे पर होता रहा काम, कांक्रीट स्लैब धंसने से दो मजदूरों की चली गई जान.

- टनल निर्माण को लेकर मार्च में प्रस्तावित टीवीएम मशीन सुधार के लिए गड्ढा खुदाई में कई स्तरों पर सामने आई अधिकारियों की लापरवाही.

कटनी

Published: February 18, 2022 06:03:32 pm

कटनी. स्लीमनाबाद में टनल निर्माण में लगी टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) सुधारने के लिए खोदे जा रहे गड्ढे में 12 फरवरी की शाम कांक्रीट स्लैब के धंसने से दो मजदूरों की मौत मामले में अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। निर्माण के दौरान गड्ढे में 11 फरवरी को ही सिंक से पानी रिसाव प्रारंभ हो गया था। खतरे को भांपते हुए अधिकारियों ने खुदाई में लगी एक्सक्वेटर मशीन को तो बाहर निकलवा दी, लेकिन काम मेंं लगे मजदूरों की सुरक्षा को नजरअंदाज कर दिया। ठेकेदार के कहने पर 12 फरवरी की शाम सिंक से लगातार पानी रिसाव के बाद भी कांक्रीट स्लैब ढलाई का काम चालू रहा और शाम 7 बजे कांक्रीट स्लैब का उपरी हिस्सा अचानक धंस गया। इसमें 9 मजदूर फंस गए, उन्हे निकालने के लिए 13 फरवरी की देररात 28 घंटे से ज्यादा समय तक चले रेक्क्यू ऑपरेशन में 7 मजदूर सुरक्षित निकले और दो मजदूरों की मौत हो गई।

sleemnabad tunnel
राहत और बचाव कार्य

इस बारे में एनवीडीए के कार्यपालन यंत्री सहज श्रीवास्तव बताते हैं कि इस क्षेत्र के मिट्टी में बीच-बीच में केविटी बनी हुई है। उसमें पानी या ऑक्सीजन भरा है। पूर्व में हाइवे के पास हादसा केविटी के कारण ही हुआ था। सिंक में अचानक फोर्स से पानी रिसाव हुआ और उसके साथ मलबा आने के बाद ग्राउटिंग की तैयारी चल रही थी कि हादसा हो गया। हादसे की जांच के बाद उच्चाधिकारी निर्णय लेंगे कि क्या करना है।

लापरवाही जो पड़ गई भारी
- 15 बाई 8 मीटर के गड्ढा खुदाई में मिट्टी मिलने तक स्लोप में खुदाई करनी थी, लेकिन सीधा गड्ढा खोदा गया। हादसे का बड़ा कारण इसे भी माना गया।
- नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण (एनवीडीए) के एसडीओ दिलीप सिंह और दीपक मंडलोई को खतरे को देखते हुए निर्णय लेना था, ऐसा नहीं हुआ।
- एनवीडीए के कार्यपालन यंत्री सहज श्रीवास्तव 12 फरवरी की शाम कार्यस्थल पर गए। काम देखा। पानी निकालने के बाद काम बढ़ाने की बात कही, लेकिन कांक्रीट स्लैब ढलाई में लगे मजदूरों पर कुछ नहीं कहा।
- सिंक से पानी रिसाव रोकने के लिए समय रहते ग्राउटिंग करवानी थी। ग्राउटिंग एजेंसी को बुला भी लिया गया था, लेकिन समय रहते ग्राउटिंग काम नहीं करवाया गया। यह काम हो जाता तो पानी रिसाव रोककर हादसा रोका जा सकता था।

इसलिए जरुरी है यह काम
- नर्मदा का पानी विंध्य तक पहुंचाने के लिए स्लीमनाबाद में टनल निर्माण ही बड़ी बाधा है। 11 साल से ज्यादा समय से यहां काम चल रहा है।
- स्लीमनाबाद के खेरमाई के समीप गड्ढे की खुदाई इसलिए की जा रही थी कि खिरहनी की ओर से टनल खुदाई करते आ रहे टीवीएम मशीन के यहां पहुंचने के बाद उसका कटर बदलने से लेकर मरम्मत के दूसरे काम किया जा सके।
- टीवीएम मशीन 25 से 27 मीटर गहराई में टनल खुदाई कर रही है। गड्ढा खुदाई के लिए इतने ही मीटर गहराई में कोर ड्रिलिंग करवाकर परीक्षण करवाया गया था।
- 27 मीटर गहराई गड्ढा खुदाई में 13 मीटर तक मिट्टी फिर पत्थर है। 9 मीटर खुदाई हो गई थी। तभी सिंक से पानी रिसाव प्रारंभ हो गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Texas Shooting: अमरीकी राष्ट्रपति ने टेक्सास फायरिंग की घटना को बताया नरसंहार, बोले- दर्द को एक्शन में बदलने का वक्तजातीय जनगणना सहित कई मुद्दों को लेकर आज भारत बंद, जानिए कहां रहेगा इसका ज्यादा असरमहंगाई से जंग: रिकॉर्ड निर्यात से घबराई सरकार, गेहूं के बाद अब 1 जून से चीनी निर्यात भी प्रतिबंधितआंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलरिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगदिल्ली के नरेला में एनकाउंटर, बॉक्सर गैंग का शातिर शार्प शूटर अरेस्टESIC MTS Result 2022 : ESIC MTS फेज 1 का परिणाम जारी, ऐसे चेक करें स्कोरकार्डRajasthan : सिर्फ 5 दिन का कोयला शेष, छत्तीसगढ़ से जल्दी नहीं मिली मदद तो गंभीर बिजली संकट में डूबने की चेतावनी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.