कोरोना संकट काल में बदली परिस्थियों के बाद दोपहिया वाहन बाजार में लौटेगी रौनक

शोरूम संचालकों ने कहा दोपहिया बाजार में अच्छी बिक्री की उम्मींद.

- लॉकडाउन में भी नहीं घटा बाजार, हर माह 11 सौ से ज्यादा वाहनों का पंजीयन.

By: raghavendra chaturvedi

Published: 16 Oct 2020, 11:23 AM IST

कटनी. कोरोना संक्रमण की विश्वव्यापी समस्या के बाद जब पूरी दुनिया इस संकट से जूझ रही है तो इसका असर शहर से लेकर गांव तक रहने वाले युवा और किसानों की दिनचर्या पर भी पड़ा है। कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के बीच ज्यादातर लोगों ने दोपहिया वाहनों पर भरोसा जताया तो बाजार अनलॉक होने के बाद अब दोपहिया वाहनों के बाजार रौनक लौटने की संभावना है। जानकार बताते हैं कि जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद दोपहिया वाहनों को 28 से निकालकर 18 फीसद के स्लैब में डाला जा सकता है। अगर ऐसा होता है तो बिक्री में बढ़ोतरी होगी और बाजार में पहले की तुलना में रौनक लौटेगी।

कटनी के दोपहिया शोरूम संचालकों ने बताया कि कोरोना संक्रमण के बाद बदली परिस्थियों से संभावना है कि दोपहिया वाहन बाजार में वृद्धि होगी। पहले की तुलना में ज्यादा वाहनों की बिक्री होगी। बाजार अनलॉक होने के बाद इस दिशा में लोगों को रूझान बढ़ा है और प्रतिदिन वाहनों की जानकारी लेने वालों की संख्या में भी इजाफा हुआ है।

आरटीओ एमडी मिश्रा ने बताया कि दोपहिया वाहनों के बाजार को ऐसे भी समझ सकते हैं कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान भी वाहनों की बिक्री में कमीं नहीं आई। कोरोना लॉकडाउन के महीनों में हर माह वाहनों के पंजीयन का औसत 1 हजार एक सौ वाहनों का रहा। इसके पीछे प्रमुख कारण बसों का बंद होना रहा। बसें बंद होने के बाद ज्यादातर लोगों ने दोपहिया वाहनों का रूख किया। 75 प्रतिशत लोगों ने वाहन फाइनेंस करवाया।

यह भी जानें
- फसल अच्छी होने के बाद इसका असर दोपहिया वाहनों के बाजार पर सकारात्मक रूप से पड़ेगा।
- ज्यादातर वाहनों की कीमत गांव और शहर के जरूरतमंद लोगों की पहुंच के अंदर है, इसका लाभ भी बिक्री पर पड़ेगा।
- नवरात्र पर्व और दीपावली पर्व को देखते हुए दोपहिया वाहन से जुडी कंपनियों ने उपभोक्ताओं के लिए तैयारी भी की है।

Corona virus
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned